विदेश मंत्री पोम्पियो ने कहा- भारतीय सीमा में घुसपैठ कर चीन दुनिया का रुख जानना चाह रहा था, लेकिन ज्वार उसी की तरफ मुड़ गया

अमेरिका ने कहा है कि चीन भारतीय सीमा में घुसकर टेस्ट कर रहा था कि दुनिया उसकी इस हरकत पर क्या रुख अपनाती है? हालांकि, ज्वार उसी की तरफ मुड़ गया है। अमेरिका के विदेश मंत्री ने माइक पोम्पियो ने कहा कि चीन देखना चाहता था कि क्या हम उसके खिलाफ खड़े होंगे?

लोकतांत्रिक देशों का गठबंधन बना रहे
माइक पोम्पियो सीनेट में बोल रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा, "चीन की हरकतों को रोकने के लिए लोकतांत्रिक देशों का गठबंधन बनाने पर विचार कर रहे हैं। हम इस क्षेत्र के अपने मित्र देशों से अभी इस पर और विचार करेंगे। हम डिप्लोमैटिकली नए रिश्ते बना रहे हैं। अभी इस पर बहुत काम करने की जरूरत है।"

देशों को स्वतंत्रता और अत्याचार के बीच चुनना होगा
पोम्पियो ने कहा कि हम देशों से चीन और अमेरिका में से किसी एक को चुनने के लिए नहीं कह रहे। हम हर संप्रभु (सॉवेरिन) देश को स्वतंत्रता और अत्याचार के बीच चुनने के लिए कह रहे हैं। पोम्पियो ने इस दौरान अमेरिका के पिछले नेताओं की भी आलोचना की। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों को चीन का खतरा नहीं दिखा। उनकी आंखों में बस बिजनेस नजर आ रहा था।

आप यह खबर भी पढ़ सकते हैं...
1. चीन लीडरशिप की भूमिका में आना चाहता है?:यूएन में अमेरिका की पूर्व राजदूत निक्की हेली ने कहा- जिनपिंग की अगुआई में चीन ज्यादा धौंस दिखा रहा, यह सब ज्यादा दिन नहीं चलेगा



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
माइक पोम्पियो ने कहा कि हम चीन और अमेरिका में से किसी एक का चुनाव करने के लिए नहीं कर रहे। हर संप्रभु देश से स्वतंत्रता और अत्याचार के बीच चुनने के लिए कह रहे हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2EvjUkk

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान