राष्ट्रपति जिनपिंग के आलोचक प्रो. झंगरुन गिरफ्तार, उन्होंने कहा था- वन मैन सत्ता से देशभर में कोरोना फैला

चीन की राजधानी बीजिंग में पुलिस ने सोमवार को राष्ट्रपति शी जिनपिंग के कड़े आलोचक जू झंगरुन को उनके घर से गिरफ्तार कर लिया। जू शिघुआ यूनिवर्सिटी में कानून के प्रोफसर हैं। उनकी मित्र गेंग जियाओनान ने कहा कि पिछले महीने जू की एक किताब न्यूयॉर्क में प्रकाशित हुई थी। इसमें जिनपिंग और उनकी कम्युनिस्ट पार्टी के शासन की तीखी आलोचना की गई है।

किताब में 10 राजनीतिक निबंध हैं। इस किताब के कारण ही जू को गिरफ्तार किया गया। इससे पहले स्थानीय मीडिया में रिपोर्ट आई थी कि जू को घर में नजरबंद किया गया है क्योंकि उन्होंने अपने एक निबंध में लिखा था कि चीन में जिनपिंग की वन मैन सत्ता के कारण कोरोना बढ़ा।

एक अन्य निबंध में कहा था कि चीन माओत्से तुंग के अधिनायकवादी शासन की ओर जा रहा है। कई मुद्दों पर चीन दुनिया में अलग-थलग पड़ता जा रहा है। चीनी जनता के लिए लोकतंत्र चुनने का यही सही समय है।

जनवरी से ही अपने आलोचकों को गिरफ्तार करवा रहे जिनपिंग
चीन में कोरोना संकट से मुकाबले को लेकर जिनपिंग की आलोचना करने वालों की जनवरी से गिरफ्तारी की जा रही है। इनमें जू बड़ा नाम हैं। अप्रैल में एक बिजनसमैन रेन झिकियांग ने अपने लेख में जिनपिंग को बिना कपड़ों का क्लोन बताया था।

पुलिस इस मामले में जांच कर रही है। यही नहीं, कई लोग कोरोना को लेकर जिनपिंग के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। उधर, चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि उन्हें जू की गिरफ्तारी की सूचना नहीं है।

दैनिक भास्कर से ब्लूमबर्ग के विशेष अनुबंध के तहत



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग जनवरी से ही उन लोगों को गिरफ्तार करवा रहे हैं, जिन्होंने कोरोना के कारण सरकार की आलोचना की थी। (फाइल)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2O1oNmO

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान