अपनी पार्टी का समर्थन न मिलने के बाद ट्रम्प ने कहा- चुनाव टालना नहीं चाहते, फर्जी वोटों से बचना चाहते हैं

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प नवंबर में होने वाले चुनाव को टालने की बात पर बैकफुट में आ गए हैं। उन्हें अपनी ही पार्टी का समर्थन नहीं मिला है। रिपब्लिकन पार्टी के कई बड़े नेताओं ने कहा है कि ट्रम्प के पास चुनाव टालने का अधिकार नहीं है। अब ट्रम्प ने कहा है कि वे चुनाव टालना नहीं चाहते हैं, लेकिन फर्जी वोटों से बचना चाहते हैं।

ट्रम्प ने कहा था- इस बार इतिहास के सबसे फर्जी चुनाव होंगे
ट्रम्प ने गुरुवार को सुझाव दिया था कि 2020 में होने वाला इलेक्शन टाल दिया जाए। उन्होंने कहा था कि कोरोना महामारी के चलते इन चुनावों में मेल-इन बैलेट (चिट्ठी के जरिए वोटिंग) से वोटिंग हो सकती है। ऐसा हुआ तो यह अमेरिकी इतिहास के सबसे गलत और फर्जी चुनाव साबित होंगे। यह अमेरिका के लिए बेहद शर्म की बात होगी।

मेल-इन बैलेट के पक्ष में 71% वोटर
अमेरिका में हाल ही में हुए एक सर्वे में सामने आया था कि 71% वोटर मेल-इन बैलेट के जरिए वोटिंग के पक्ष में हैं। यह सर्वे हार्वर्ड सेंटर फॉर अमेरिकन पॉलिटिकल स्टडीज (सीएपीएस) ने किया था। इसमें बताया गया कि महामारी को देखते हुए 88% डेमोक्रेट्स और 50% रिपब्लिकन भी मेल-इन बैलेट के जरिए वोटिंग के पक्ष में हैं।

ट्रम्प के पास चुनाव टालने का अधिकार नहीं
अमेरिका के संविधान के अनुसार, राष्ट्रपति चुनाव की तारीख बदलने का अधिकार राष्ट्रपति के पास नहीं है। इसके लिए ट्रम्प को संसद के दोनों सदन हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव और सीनेट से बिल मंजूर कराना होगा। सीनेट में तो ट्रम्प की रिपब्लिकन पार्टी का बहुमत है, लेकिन निचले सदन में डेमोक्रेटिक पार्टी का बहुमत है।
अगर ट्रम्प दोनों सदनों से बिल पास करा भी लेते हैं तो भी वे ज्यादा समय तक चुनाव नहीं टाल पाएंगे। अमेरिका के संविधान के मुताबिक राष्ट्रपति चुनाव 20 जनवरी तक हर हाल में कराने होंगे।

तीन नवंबर को हैं राष्ट्रपति चुनाव
अमेरिका में राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव 3 नवंबर को होने हैं। रिपब्लिकन पार्टी की ओर से राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प तो डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से पूर्व उपराष्ट्रपति जो बिडेन हैं। दोनों पार्टियों के प्राइमरी चुनाव खत्म हो चुके हैं। डेमोक्रेटिक पार्टी का नेशनल कन्वेंशन भी हो चुका है। इसमें बिडेन के नाम पर मोहर लगी है। अगस्त में रिपब्लिकन पार्टी का नेशनल कन्वेंशन होना है। इसमें ट्रम्प को आधिकारिक रूप से उम्मीदवार घोषित किया जाएगा।


अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी ये खबर भी पढ़ सकते हैं...
1. अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव टलेंगे?:चुनाव से 96 दिन पहले ट्रम्प ने कहा- इस बार इतिहास के सबसे फर्जी चुनाव होंगे, इससे अमेरिका शर्मिंदा होगा; चुनाव टाल देना चाहिए



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ट्रम्प ने गुरुवार को कहा था कि महामारी के चलते अगर चुनावों में मेल-इन बैलेट से वोटिंग होती है तो यह अमेरिकी इतिहास के सबसे गलत चुनाव साबित होंगे। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/39Hk7MU

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस