सिंगापुर का युवक अमेरिका में चीन के लिए जासूसी करने का दोषी, एक दिन पहले ही जासूसी के आरोप में चीनी साइंटिस्ट गिरफ्तार

सिंगापुर का एक युवक अमेरिका में चीन के एजेंट के रूप में काम करने का दोषी ठहराया गया है। अधिकारियों का कहना है कि जून वी येओ पर अमेरिका में राजनीतिक कंसल्टेंसी का इस्तेमाल कर चीनी खुफिया एजेंसी के लिए सूचनाएं जमा करने का आरोप लगा है।

अमेरिकी न्याय विभाग ने कहा कि 39 साल का जून जिसे डिकसन येओ के नाम से भी जाना जाता है, उसे शुक्रवार को फेडरल कोर्ट में चीनी सरकार के एजेंट के रूप में काम करने का दोषी ठहराया गया। उस पर पहले भी चीनी खुफिया एजेंसियों के लिए अहम और सीक्रेट इंफॉर्मेशन चोरी करने का आरोप लगाया गया था।

वह सिंगापुर की यूनिवर्सिटी में पीएचडी स्टूडेंट था। 2015 की शुरुआत से वह चीनी खुफिया एजेंसी के साथ काम करता था। वह उस साल साउथ-ईस्ट एशिया में राजनीतिक स्थिति पर एक प्रजेंटेशन के लिए बीजिंग गया था, जहां वह चीनी एजेंसी के संपर्क में आया।

जानकारी के मुताबिक, जून संवेदनशील सूचनाओं के लिए लिंक्डइन जैसे वेबसाइट के जरिए लोगों को निशाना बनाता था। उसे 2019 में भी गिरफ्तार किया गया था।

चीनी साइंटिस्ट गिरफ्तार

उधर, एफबीआई ने शुक्रवार को रात करीब 3 बजे सैन फ्रांसिस्को की डिप्लोमैटिक फैसेलिटी से चीनी साइंटिस्ट तांग जुआन (37) को गिरफ्तार कर लिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिकी खुफिया एजेंसियां देश में तीन और चीनी जासूसों की तलाश कर रही हैं। देश की सीमाओं पर मौजूद अफसरों को अलर्ट पर रहने को कहा गया है।

ह्यूस्टन और टेक्सास में चीनी कॉन्स्युलेट बंद

हाल में अमेरिका ने ह्यूस्टन और टेक्सास में चीनी कॉन्स्युलेट बंद कर दिए। इसके बाद चीन ने भी शुक्रवार को चेंग्दू शहर में अमेरिकी कॉन्स्युलेट का लाइसेंस वापस ले लिया। साथ ही चीन ने कहा कि अमेरिका का कदम गैरजरूरी था। उसने जैसा किया, वैसा जवाब देना जरूरी और सही है।

चीन पर बौद्धिक संपदा के चोरी का आरोप

उधर, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि यह कॉन्स्युलेट बंद करने का फैसला इसलिए लिया गया, क्योंकि चीन बौद्धिक संपदा की चोरी कर रहा था। दरअसल, मंगलवार रात ह्यूस्टन स्थित चीनी कॉन्स्युलेट में हजारों डॉक्यूमेंट्स जलाए गए।

ये भी पढ़ें

1. फौजी महिला को जासूसी के लिए अमेरिका भेजा, 2 साल लैब असिस्टेंट रही; अब आधी रात को गिरफ्तार, तीन और की तलाश जारी

2. चीन ने चेंग्दू शहर में अमेरिकी कॉन्स्युलेट बंद करने के आदेश दिए, लाइसेंस रद्द किया; अमेरिका ने टेक्सास और ह्यूस्टन में चीनी कॉन्स्युलेट बंद किए थे​​​​​​​

3. अमेरिका ने चीन से 72 घंटे में ह्यूस्टन कॉन्स्युलेट बंद करने को कहा; यहां संवेदनशील दस्तावेज जलाए जाने का शक



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (बाएं) और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग हैं। हाल के दिनों में अमेरिका और चीन में तनाव बढ़ता जा रहा है। अमेरिका ने ह्यूस्टन और टेक्सास में चीनी कॉन्स्युलेट बंद कर दिए। जवाब में चीन ने भी शुक्रवार को चेंग्दू शहर में अमेरिकी कॉन्स्युलेट का लाइसेंस वापस ले लिया। (फाइल फोटो)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/30LTQcf

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस