नीलम और झेलम नदी पर चीनी कंपनी बांध बना रही, इसके विरोध में मुजफ्फराबाद में लोगों ने रैली निकाली

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के मुजफ्फराबादमें चीन का विरोध तेज हो गया है। यहां के लोगों ने सोमवार को नीलम और झेलम नदी पर गैरकानूनी ढंग से हाइड्रोपावर प्लांट बनाने के खिलाफ रैली निकाली। लोगों ने पाकिस्तान और चीन के खिलाफ नारे लगाए।स्थानीय लोगों का कहना है कि बांध बनाने से पर्यावरण पर बुरा असर पड़ेगा। इस मुद्दे को दुनिया तक पहुंचाने के लिए ट्वीटर पर #SaveRiversSaveAJK कैंपेन शुरू किया गया है।

यह पावर प्लांट चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरीडोर (सीपीईसी) के तहत बनाया जा रहा है। इसे चीन की थ्री गोर्जेस कॉरपोरेशन कंपनी की सब्सिडियरी कोहाला हाइड्रोपावर कंपनीलिमिटेड तैयार कर रही है।
लोगों ने कहा- यह संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव के खिलाफ
स्थानीय लोगों का कहना है कि जब यह क्षेत्र विवादित है तो फिर यहां चीन-पाकिस्तान किस कानून के तहत बांध बना रहे हैं।हम विरोध मेंकोहाला प्रोजेक्ट तक रैली निकालेंगे। प्लांटके लिए नदियों पर कब्जा किया जा रहा है। यह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएएसी) के प्रस्ताव का उल्लंघन है।

प्लांट की अनुमानित लागत करीब 18 हजार करोड़

चीन-पाकिस्तान के बीच इस प्रोजेक्ट के लिए इसी साल करार हुआ है। इस पावर प्लांट से 1124 मेगावाॅट बिजली तैयार की जाएगी। प्लांट की अनुमानित लागतकरीब 18 हजार करोड़ रुपए है। प्रोजेक्ट के तहत 20 किमी लंबी नहर बनाई जाएगी, जो मुजफ्फराबाद से होकर गुजरेगी। दिसंबर 2018 में भी मुजफ्फराबाद के लोगों ने नहर के डिजाइन को लेकर विरोध किया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पीओके के लोगों ने चीनी कंपनी के इस प्रोजेक्ट के विरोध में रैली निकाली। उन्होंने दिसंबर 2018 में भी इस प्रोजेक्ट का विरोध किया था।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2De96Xb

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान