डेडलाइन खत्म होने के बाद चीन के ह्यूस्टन कॉन्स्युलेट में दाखिल हुए अमेरिकी एजेंट्स, चीनी जासूस गिरफ्तार

अमेरिका ने चीन के खिलाफ रुख और सख्त कर लिया। चीन को मंगलवार को ह्यूस्टन कॉन्स्युलेट 72 घंटे में बंद करने के आदेश दिए गए थे। शुक्रवार शाम 4 बजे जैसे ही डेडलाइन खत्म हुई, अमेरिकी एजेंट्स इस बिल्डिंग में दाखिल हो गए। अंदर मौजूद कुछ लोगों ने गेट नहीं खोला। इस पर एफबीआई ने उन्हें वॉर्निंग दी। इसके बाद एजेंट्स ने दरवाजा ताकत के इस्तेमाल से खुलवाया। इस बीच, कॉन्स्युलेट में छिपे एक चीनी जासूस को गिरफ्तार कर लिया गया।

जासूस की गिरफ्तारी कहां से हुई
अब तक आधिकारिक तौर पर यह नहीं बताया गया है कि एफबीआई ने चीनी जासूस को कहां से गिरफ्तार किया। कुछ खबरों में इसे महिला एजेंट बताया गया है जो न्यूयॉर्क की एक रिसर्च लैब में भी काम कर चुकी है। विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने पहले ही साफ कर दिया था कि चीनी कॉन्स्युलेट्स का इस्तेमाल अमेरिका की जासूसी में हो रहा है, और इसे किसी कीमत पर सहन नहीं किया जाएगा।

एफबीआई को क्या मिला
अब तक यह साफ नहीं है कि एफबीआई को ह्यूस्टन कॉन्स्युलेट से क्या मिला। हालांकि, एजेंट्स के दाखिल होने के बाद कई लोग बक्से लेकर बाहर निकलते दिखे। ये लोग लोकल पुलिस डिपार्टमेंट के थे। एफबीआई के साथ फोरेंसिक डिपार्टमेंट की एक स्पेशल टीम भी आई थी। माना जा रहा है कि इस टीम ने मंगलवार को जलाए गए डॉक्युमेंट्स के सुराग तलाशे। दस्तावेज जलाए जाने की घटना के बाद ही कॉन्स्युलेट पर शक हुआ था। इसके बाद इसे 72 घंटे में बंद करने के आदेश दिए गए थे।

हर हरकत पर नजर
मंगलवार के बाद से ही कॉन्स्युलेट के बाहर एफबीआई के एजेंट्स तैनात थे। ये यहां होने वाली हर हरकत पर पैनी नजर रख रहे थे। शुक्रवार दोपहर करीब दो बजे यहां कई ब्लैक एसयूवी, ट्रक और दो व्हाइट वैन पहुंचीं। चार बजते ही एजेंट्स ने जबरदस्ती गेट खुलवाया और ये गाड़ियां भी अंदर दाखिल हो गईं। इस दौरान लोकल पुलिस बाहर तैनात थी। तलाशी के बाद बिल्डिंग को सील कर दिया गया।

यह छोटी सी घटना
सीएनएन से बातचीत में एक अमेरिकी अफसर ने कहा, “ह्यूस्टन में जो हुआ वह तो छोटी से घटना है। साजिश के तार बहुत दूर तक फैले हैं। इसकी जानकारी हमें मिल चुकी है। अमेरिका के कम से कम 25 शहरों में जासूसी का नेटवर्क चलाया जा रहा था। कॉन्स्युलेट के कुछ लोग जांच को भटकाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्हें यह पता होना चाहिए कि हम कितने प्रोफेशनल तरीके से जांच करते हैं।”

अमेरिका और चीन के बीच जारी विवाद से जुड़ी ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं...

1.चीन पर सख्त कार्रवाई:अमेरिका ने चीन से 72 घंटे में ह्यूस्टन कॉन्स्युलेट बंद करने को कहा; यहां संवेदनशील दस्तावेज जलाए जाने का शक

2.रिश्तों में बढ़ती तल्खी:एफबीआई ने कहा- वीजा फ्रॉड का आरोपी चीनी साइंटिस्ट सैनफ्रांसिस्को के चीनी कॉन्स्युलेट में छुपा है, ट्रम्प की धमकी- चीन की और एम्बेसी बंद कर सकते हैं



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
शुक्रवार को शाम चार बजे (लोकल टाइम) ह्यूस्टन स्थित चीनी कॉन्स्युलेट में एफबीआई एजेंट्स दाखिल हुए। दरवाजा खुलवाने के लिए उन्हें मशक्कत करनी पड़ी। बाद में बिल्डिंग की तलाशी ली गई। इस दौरान फोरेंसिक टीम भी साथ थी।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2ZYZW9Y

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान