तिरुवनंतपुरम एयरपोर्ट पर पकड़ा गया था सोने से भरा यूएई एम्बेसी का बैग, यूएई ने कहा- हमारे डिप्लोमैट इसमें शामिल नहीं

एयरपोर्ट पर शुक्रवार को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) एम्बेसी का बैग कस्टम अधिकारियों ने पकड़ा था। यूएई के अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि तस्करी के इस मामले में हमारे डिप्लोमैट का हाथ नहीं है। भारत में यूएई के राजदूत अहमद अल बन्ना ने कहा कि वे इस मामले के लिए केरल के अधिकारियों से बातचीत करेंगे।

कस्टम अधिकारियों को एयरपोर्ट पर सोने की तस्करी की खबर लगी थी। इसके बाद उन्होंने एक डिप्लोमैटिक बैग को जब्त किया। इसमें केरल स्थित यूएई के कान्सुलेट का पता था। यह बैग यूएई से एक चार्टर्ड फ्लाइट से एयरपोर्ट लाया गया था और इसमें 30 किलो सोना था।

कॉन्सुलेट के पूर्व कर्मचारी का हाथ, वो केरल का ही रहने वाला
तिरुवनंतपुर में यूएई कॉन्सुलेट ने एक स्टेटमेंट भी जारी किया। इसमें कहा गया- इस मामले में हमारे डिप्लोमैट का कोई हाथ नहीं है। तस्करी में शामिल किसी व्यक्ति द्वारा डिप्लोमैटिक चैनल का इस्तेमाल किए जाने की हम निंदा करते हैं।

शुरुआती जांच में सामने आया है कि कॉन्सुलेट के लिए स्थानीय स्तर पर रखा गया एक कर्मचारी इस काम में शामिल है। हालांकि, इस कर्मचारी को तस्करी की घटना से पहले ही गलत गतिविधियों के चलते नौकरी से हटा दिया गया था। उसने कॉन्सुलेट में अपनी जानकारी और संबंधों का आपराधिक गतिविधि के लिए इस्तेमाल किया।

फेक आईडी के साथ गिरफ्तार किया गया पूर्व कर्मचारी
केरल पुलिस ने इस मामले में कॉन्सुलेट के दो पूर्व कर्मचारियों सरिथ कुमार और स्वप्न सुरेश को आरोपी बनाया है। सरिथ कुमार इस बैग को लेने के लिए फेक आईडी लेकर एयरपोर्ट गया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कस्टम अधिकारियों को एयरपोर्ट पर सोने की तस्करी की खबर लगी थी। इसके बाद उन्होंने एक डिप्लोमैटिक बैग को जब्त किया। -प्रतीकात्मक फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2O4RzD6

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान