नागरिकों और सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में 127 लोगों की जान गई; इनमें 45 सैनिक और 82 यूथ

दक्षिण सूडान में नागरिकों और सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में 127 लोगों की मौत हो गई। आर्मी प्रवक्ता मेजर जनरल लूल रुआइ कोआंग ने बुधवार को ये जानकारी दी। उन्होंने न्यूज एजेंसी एएफपी को बताया कि यह घटना शनिवार की है। द.सूडान के टोंज शहर में सैनिकों ने शनिवार को नागरिकों को हथियार छोड़ने के लिए एक ऑपरेशन चलाया था। लेकिन, यह साम्प्रदायिक झड़प में बदल गया।

गृह युद्ध में जकड़े द.सूडान में आए दिन लोगों पर हमले होते रहते हैं। इस वजह से अपनी सुरक्षा के लिए कई समुदाय हथियार रखते हैं। आर्मी प्रवक्ता ने बताया कि टोंज में सैनिकों के इस ऑपरेशन से कई हथियार लिए युवा असहमत थे, जिसके बाद उनमें टकराव शुरू हो गया। शुरुआत में स्थिति पर कंट्रोल कर लिया गया था, लेकिन इस बीच युवाओं ने वहां और लोगों को जुटा लिया।

2 अफसर गिरफ्तार

आर्मी प्रवक्ता के मुताबिक, हिंसक झड़प में कुल 127 लोग मारे गए हैं। इनमें 45 सैनिक हैं, जबकि 82 युवा हैं। वहीं, 32 सैनिक घायल भी हुए हैं। हिंसा भड़काने में शामिल दो सैन्य अफसरों को गिरफ्तार किया गया है। फिलहाल, टोंज का माहौल शांत है।

2013 से गृहयुद्ध जारी

दक्षिण सूडान में 2013 से गृहयुद्ध जारी है। अब तक 3 लाख 80 हजार लोग मारे जा चुके हैं। 12 लाख से ज्यादा लोग विस्थापित हो चुके हैं। यहां निरस्त्रीकरण एक बड़ी समस्या है। विशेषज्ञों ने ऐसे ऑपरेशन के खिलाफ चेतावनी दी है। उनका कहना है कि बिना बेहतर प्लानिंग के लोगों को हथियार छोड़ने के लिए नहीं कहा जा सकता। क्योंकि, कुछ समुदाय को लगता है कि हथियार छोड़ने के बाद वे खुद की सुरक्षा नहीं कर सकेंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
दक्षिण सूडान में 2013 से जारी गृह युद्ध में अब तक 3 लाख 80 हजार लोग मारे जा चुके हैं। (फाइल फोटो)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2DNSzd7

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस