पोप ने आर्थिक मामलों पर नजर रखने के लिए 6 महिलाओं को अपॉइंट किया, वेटिकन सिटी में पहली बार अहम ओहदों पर महिला शक्ति

पोप फ्रांसिस ने ईसाइयों की धर्मनगरी वेटिकन सिटी के फाइनेंशियल मामलों पर नजर रखने के लिए सात लोगों को अपॉइंट किया है। इनमें छह महिलाएं हैं। परंपराओं से अलग जाकर लिए गए इस ऐतिहासिक फैसले की तारीफ हो रही है। वेटिकन सिटी में इससे पहले कभी महिलाओं को इस स्तर का अधिकार नहीं मिले थे।

अपॉइंट की गईं छह महिलाएं
इन महिलाओं में ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स की फाइनेंशियल असिस्टेंट रह चुकीं लेस्ली जेन फेरार, ब्रिटेन की लेबर पार्टी की सरकार में एजुकेशन मिनिस्टर रह चुकीं रूथ मारिया केली, जर्मनी की शेरलॉट क्रूटर और मैरिजा कोलैक, स्पेन की एवा कैसिलो और मारिया कॉन्सेप्सियन हैं। यह सभी महिलाएं आर्थिक मामलों की जानकार हैं और उन्हें इसका पर्याप्त अनुभव है।

वेटिकन सिटी में फाइनेंशियल काउंसिल की सदस्य बनने वाली ब्रिटेन की रूथ मारिया केली। -फाइल फोटो

2014 में बना था काउंसिल
पोप ने 2014 में वेटिकन सिटी के इकॉनामिक मैनेजमेंट और फाइनेंशियल एक्टिविटी पर नजर रखने के लिए 2014 में एक काउंसिल बनाया था। 15 लोगों के इस काउंसिल में 8 बिशप हैं। बाकी सात सदस्य विभिन्न देशों के फाइनेंशियल एक्सपर्ट होते हैं।

वेटिकन में काम करने वाली महिलाओं की संख्या बढ़ी
वेटिकन न्यूज में पब्लिश एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले 10 सालों में वेटिकन सिटी में काम करने वाली महिलाओं में बढ़ोतरी हुई है। 2010 में जहां 17% महिलाएं काम करती थीं वहीं पिछले साल यह आंकड़ा बढ़कर 22% हो गया था। पोप फ्रांसिस ने पहले ही महिलाओं को डिप्टी फॉरेन मिनिस्टर, वेटिकन म्यूजियम का डाइरेक्टर और वेटिकन न्यूज में भी अहम पदों पर अपॉइंट किया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पोप फ्रांसिस को प्रोग्रेसिव माना जाता है। वह महिलाओं के मुद्दे और गरीबी पर खुल कर बोलते रहे हैं। - फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3i9oT90

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान