नॉर्थ कोरिया के पास करीब 60 परमाणु बम और पांच हजार टन रासायनिक हथियार; एंथ्रेक्स और चेचक को भी जैविक हथियार बनाया

नॉर्थ कोरिया के पास करीब 60 परमाणु बम है। यह दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश है, जहां करीब पांच हजार टन रासायनिक हथियार हैं। अमेरिका की आर्मी ने एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी है।
सियोल की योनहैप न्यूज एजेंसी ने मंगलवार को एक रिपोर्ट में कहा कि अमेरिकी सेना के मुख्यालय ने "नॉर्थ कोरियन टैक्टिक्स" के नाम से एक रिपोर्ट जारी की है। कहा गया कि नार्थ कोरिया की ओर से इन हथियारों को छोड़ने की कोई संभावना नहीं है।

अमेरिकी रिपोर्ट में दावा

  • नॉर्थ कोरिया के पास 20 से 60 परमाणु बम हैं। उसके पास हर साल करीब 6 नए बम बनाने की क्षमता है।
  • उसके पास 20 अलग-अलग प्रकार के 2500 से 5000 टन रासायनिक हथियार हैं। इस बात की भी बहुत संभावना है कि नार्थ कोरिया की सेना तोपों में रासायनिक गोलों का इस्तेमाल कर सकती है।
  • नॉर्थ कोरिया ने जैविक हथियारों पर शोध किया है। संभावना है कि उसने एंथ्रेक्स और चेचक को हथियार बनाया है, जिसका इस्तेमाल वह साउथ कोरिया, अमेरिका और जापान के खिलाफ कर सकता है। केवल एक किलोग्राम एंथ्रेक्स सियोल में करीब 50 हजार लोगों की जान ले सकता है।
  • माना जा रहा है कि नॉर्थ कोरिया ने साइबर वॉर की भी क्षमता हासिल कर ली है। नॉर्थ कोरिया के पास करीब 6000 हैकर्स हैं, जिनमें से कई चीन, बेलारूस, मलेशिया, रूस और भारत से भी काम करते हैं।

ट्रम्प और किम जोंग उन के बीच अब तक तीन बार मुलाकात हो चुकी

कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु निरस्त्रीकरण करने को लेकर ट्रम्प और किम के बीच पिछले साल 12 जून को सिंगापुर में पहली बैठक हुई। दूसरी मुलाकात 28 फरवरी को वियतनाम में हुई थी, किम जोंग उन ट्रेन से 4 हजार किमी की यात्रा कर यहां पहुंचे थे। तीसरी बार ट्रम्प ने कोरियाई प्रायद्वीप के असैन्य क्षेत्र (डीमिलिट्राइज्ड जोन, डीएमजेड) में 30 जून को किम जोंग-उन से मुलाकात की थी। हालांकि, इन मुलाकातों का कोई पॉजिटिव रिजल्ट नहीं देखने को मिला।

साउथ कोरिया और अमेरिका के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास शुरू
साउथ कोरिया और अमेरिका ने मंगलवार को संयुक्त सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया। यह अभ्यास 28 अगस्त तक चलेगा। शिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक सैन्य अभ्यास दो चरणों में चलेगा। इसके पहले चरण में शनिवार तक डिफेंस पर फोकस किया जाएगा। जबकि, इसके बाद से 28 अगस्त तक काउंटर-अटैक पर फोकस होगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर अमिरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प और उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग उन के बीच 3 बार मीटिंग हो चुकी है। लेकिन, इनका कोई पॉजिटिव रिजल्ट नहीं निकला।- फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2DTyvGz

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे