यूरोप के आखिरी तानाशाह कहे जाने वाले 65 साल के राष्ट्रपति लुकाशेंको को 26 साल में पहली बड़ी चुनौती, 37 साल की स्वेतलाना मुकाबले में

रूस की पश्चिमी सीमा से सटे देश बेलारूस में छठी बार चुनाव हो रहे हैं। बेलारूस 25 अगस्त, 1991 को सोवियत संघ से अलग होकर आजाद देश बना था। इसके बाद संविधान बना और जून 1994 को पहला राष्ट्रपति चुनाव हुआ। राष्ट्रपति बने अलेक्जेंडर लुकाशेंको। 1994 से लेकर अब तक पांच बार चुनाव हो चुके हैं और राष्ट्रपति अभी भी लुकाशेंको ही हैं। लुकाशेंको को एक डिक्टेटर के तौर पर देखा जाता है। उन पर हर बार चुनावों में गड़बड़ी कराने के आरोप लगे हैं। 26 सालों में पहली बार लुकाशेंको को बड़ी चुनौती मिल रही है। इस बार उनके सामने 37 साल की स्वेतलाना हैं। स्वेतलाना के पति को लुकाशेंको प्रशासन ने जेल में डाल दिया था।

क्या इस बार लुकाशेंको को हार मिलेगी?

शायद नहीं। लुकाशेंको की फिर से जीत तय मानी जा रही है। लेकिन, इस बार उन्हें टक्कर मिल सकती है। लोगों की भावनाएं विपक्षी उम्मीदवार स्वेतलाना के साथ हैं। लोग लुकाशेंको की तानाशाही और कोरोना महामारी पर लापरवाह रवैये से नाराज है। कोरोनावायरस पर वह कहते रहे हैं कि वोडका पीने और ट्रैक्टर चलाने से कोरोना ठीक हो जाता है।

कौन हैं विपक्षी उम्मीदवार स्वेतलाना?

स्वेतलाना पहले टीचर थीं। उनके पति सरहेई लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ता हैं। उन्हें लुकाशेंको प्रशासन ने जेल में डाल दिया। इसके बाद से स्वेतलाना खुद मोर्चा संभाल रही हैं। हाल ही में उनके कैंपेन मैनेजर को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

कौन-कौन मैदान में?

लुकाशेंकों और स्वेतलाना के अलावा चुनाव में तीन और उम्मीदवार हैं। इसमें 2016 में संसदीय चुनावों में एमपी बने एना कनोपत्सेकाया, 'सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी' के नेता सर्जेई चेर्चेन और 'टेल द ट्रुथ मूवमेंट' के सह अध्यक्ष एंड्रेई द्मित्रियेव शामिल हैं। इसके अलावा दो और लोग चुनाव में खड़े थे, लेकिन ऐन वक्त पर उन्होंने अपना सपोर्ट स्वेतलाना को दे दिया है।

लुकाशेंको इतने सालों से सत्ता में कैसे?

रूस और यूरोपियन यूनियन में कभी नहीं पटती। लुकाशेंको इसी का फायदा उठाते रहे हैं। कभी वह ईयू के साथ मिल जाते हैं तो कभी रूस के साथ। लुकाशेंको की चुनावी धांधली पर जब ईयू ने सैंक्शंस लगाए तो वह रूस के पलड़े में आ गए। इन दिनों वह रूस से खफा चल रहे हैं। उन्होंन रूस पर चुनाव में दखलंदाजी करने का भी आरोप लगाया है।

चुनाव में रूसी दखलंदाजी

बीबीसी की खबर के मुताबिक बेलारूस ने 33 रूसी नागरिकों को गिरफ्तार किया है। इन पर विपक्ष के साथ मिलकर देश में अस्थिरता फैलाने का आरोप लगाया गया है। रूस ने इन आरोपों को खारिज कर बताया कि ये नागरिक सब बेलारूस से होते हुए तुर्की जा रहे थे। इन्हें बेवजह गिरफ्तार किया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Latest news Updates; Elections In Belarus: How Lukashenka Won, now Face Challanges


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/30HOShT

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस