चीन ने 7 सीमावर्ती जिलों में नेपाल की जमीन पर अवैध कब्जा कर रखा है; धीरे-धीरे देश के भीतर भी पांव पसार रहा

चीन अपनी विस्तारवादी नीतियों के तहत नेपाल की जमीन पर कब्जा करने में जुटा है। वह धीरे-धीरे नेपाल की कई जगहों पर अतिक्रमण करने में जुटा है। वहीं, प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली इन सबसे अनजान बने हुए हैं। नेपाल के सर्वे डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर मिनिस्ट्री की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ने सात सीमावर्ती जिलों में कई जगहों पर नेपाल की जीन पर अवैध कब्जा कर लिया है।

साथ ही वह तेजी से आगे बढ़ रहा है। ये आंकड़े भी सच नहीं हैं और माना जा रहा है कि हालात इससे भी बदतर हो सकते हैं। नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) के विस्तारवादी एजेंडे को छिपाने की कोशिश कर रही है। चीन धीरे-धीरे देश के भीतर भी अपने पांव पसार रहा है। ओली चीन की कम्युनिस्ट पार्टी को नाराज नहीं करना चाहते, इस डर से उनकी सरकार ने चुप्पी साध रखी है।

चीन यथास्थिति बनाए रखना चाहता

नेपाल के जिन जिलों में चीन का कब्जा है, उनमें दोनाखा, गोरखा, दारचुला, हुमला, सिन्धुपालचौक, संखुवासभा और रसुवा शामिल हैं। नेपाल के सर्वे और मैपिंग डिपार्टमेंट के अनुसार, चीन ने नेपाल की अंतरराष्ट्रीय सीमा को दोलखा में नेपाल के 1,500 मीटर अंदर कर दिया है। दोलखा में कोरलंग इलाके में बाउंडरी पिलर नंबर 57 को आगे कर दिया है, जो पहले कोलांग के टॉप पर स्थित था।

पिलर दोनों देशों के बीच टकराव का मुद्दा रहा है। चीन ने नेपाल की सरकार पर दबाव डाला कि दोनों देशों के बीच सीमा विवादों को हल करने और मैनेजिंग करने के लिए फोर्थ प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर न करें, क्योंकि चीन यथास्थिति बनाए रखना चाहता था।

नेपाली गांवों पर कब्जा

सर्वे और मैपिंग डिपार्टमेंट ने यह भी बताया है कि चीन ने गोरखा और दारचुला जिलों में नेपाली गांवों पर कब्जा कर लिया है। दोलखा के जैसे ही चीन ने गोरखा जिले में पिलर नंबर 35, 37, 38 और सोलुखुम्बु में नम्पा भंज्यांग में पिलर नंबर 62 की जगह बदल दी है।

पहले तीन पिलर गोरखा के रुई गांव और टॉम नदी के क्षेत्रों में स्थित थे। हालांकि, नेपाल के ऑफिशियल मैप में गांव को नेपाल के हिस्से के रूप में दिखाया जाता है। यहां के लोग भी नेपाल सरकार को टैक्स देते हैं। हालांकि, चीन ने इस क्षेत्र पर कब्जा कर लिया था और 2017 में इसे तिब्बत ऑटोनोमस रीजन में शामिल कर दिया था।

इसी तरह, मानवाधिकार आयोग ने बताया है कि दारचुला के जिउजियु गांव के एक हिस्से पर भी चीन ने कब्जा कर लिया है। कई घर जो कभी नेपाल का हिस्सा हुआ करते थे अब चीन ने उन्हें अपने कब्जे में ले लिया है। वे अब चीन में मिला दिए गए हैं।

ज्यादातर कब्जे वाली जगह नदियों के किनारे बसे

दो नेपाली एजेंसियों द्वारा कब्जा करने की रिपोर्टों के अलावा, कृषि मंत्रालय की रपोर्ट में भी इसका जिक्र है। मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक, नेपाल के चार जिलों में करीब 11 जगहों पर चीन का कब्जा है। इनमें ज्यादातार इलाके नदियों के किनारे बसे हैं। इनमें हुमला में भागदारे नदी, संजेन नदी औ रसुवा में लेमडे नदी के क्षेत्र शामिल हैं। सिंधुवल्लोव में भुर्जुग नदी, खारेन नदी और जंबू नदी शामिल है। संखुवासभा में भोटेकोसी और समुजुग, कमखोला और अरुण नदी शामिल है।

विपक्षी नेताओं ने चीन से जमीन वापस लेने की मांग की थी

जून में विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस के तीन सांसदों ने प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को चिट्ठी लिखकर चीन से जमीन वापस लेने की मांग की थी। सांसदों के मुताबिक, चीन ने नेपाल के कई जिलों की 64 हेक्टेयर (करीब 158 एकड़) जमीन पर कब्जा कर लिया है। इनमें हुमला, सिंधुपालचौक, गोरखा और रसुवा जिले शामिल हैं।

ये भी पढ़ें...

चीनी कब्जे पर नेपाल में उठी आवाज:नेपाल के तीन सांसदों की मांग- चीन ने हमारे 4 जिलों की 158 एकड़ जमीन पर कब्जा किया, प्रधानमंत्री इसे वापस दिलाएं



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
जून में विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस के तीन सांसदों ने प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को चिट्ठी लिखकर चीन से जमीन वापस लेने की मांग की थी।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/34nkifA

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे