अमेरिकी राष्ट्रपति ने बाइटडांस से कहा- अमेरिका में 90 दिन में टिकटॉक बिजनेस बेचो, यह देश की सुरक्षा के लिए खतरा

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने एक एग्जीक्यूटिव ऑर्डर जारी कर चीनी कंपनी बाइटडांस को आदेश दिया है कि 90 दिनों के भीतर अमेरिका में अपना टिकटॉक बिजनेस बेच दो। शुक्रवार को जारी एक आदेश में ट्रम्प ने लिखा, "ऐसे विश्वसनीय सबूत है, जिनसे मुझे भरोसा होता है कि बाइटडांस अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर सकती है।"
ट्रम्प ने इससे पहले के एग्जीक्यूटिव आर्डर में कहा था कि 45 दिन के बाद चीनी कंपनी के अमेरिकी कंपनियों के साथ व्यापार करने पर रोक लगा दी जाएगी। टिकटॉक इस आदेश के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की धमकी भी दे चुका है।

एप्पल, डिजनी ने वी-चैट, टिकटॉक पर बैन का आदेश रोकने को कहा
कई अमेरिकी कंपनियां जैसे- एप्पल, फोर्ड, वालमार्ट और डिजनी ने ट्रम्प प्रशासन से वी-चैट और टिकटॉक को बैन करने का आदेश वापस लेने को कहा है। उन्होंने कहा कि इससे चीन में व्यापार करने वाली अमेरिकी कंपनियों को नुकसान होगा। ट्रम्प ने टिकटॉक के अलावा चीनी कंपनी टेंसेंट होल्डिंग्स के सोशल मीडिया मैसेजिंग एप वी-चैट को भी बैन करने का आदेश दिया है। टेंसेंट ने कहा है कि वह अभी ट्रम्प के एग्जीक्यूटिव आर्डर को पूरी तरह समझ रही है।

आईफोन की बिक्री में 25-30% की गिरावट आ सकती है
एनालिस्ट मिंग-चि कू के मुताबिक अगर एप्पल एप स्टोर से वी-चैट हटाया जाता है तो चीन की मार्केट में आईफोन की बिक्री में 25-30% कि गिरावट आ सकती है। चीन के 12 लाख एप्पल यूजर्स ने कहा कि वी-चैट के बिना वह एप्पल छोड़कर एंड्रायड फोन यूज करेंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
भारत के चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने के बाद ट्रम्प भी इन्हें बैन करने जा रहे हैं। यह फोटो शुक्रवार को बेडमिन्सटर के नेशनल गोल्फ क्लब में हुए एक इवेंट की है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/340BOWP

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस