पाकिस्तानी राजदूत ने ग्लोबल टाइम्स में जम्मू-कश्मीर पर आर्टिकल लिखा, भारत ने कहा- पाकिस्तान अपना झूठ दोहरा रहा

चीन में भारतीय दूतावास ने सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स में पाकिस्तानी राजदूत के लेख पर लताड़ लगाई है। भारतीय दूतावास ने कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है। यहां पाकिस्तान और किसी दूसरे देश का कोई काम नहीं है।

पाकिस्तानी राजदूत मोइन उल-हक ने 7 अगस्त को आर्टिकल में लिखा था कि जम्मू-कश्मीर में तत्काल एक्शन लेने की जरूरत है। भारत ने कहा है कि पाकिस्तान लगातार अपना झूठ दोहरा रहा है। जम्मू-कश्मीर पर पूरा सच बताने की जरूरत है।

अनुच्छेद 370 हटने के बाद कश्मीर का विकास तेज हुआ
भारत ने कहा कि पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर पर झूठ और आधा सच बताता रहा है। मोइन हक ने इस बात को छुपाया कि 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 हटने के बाद से जम्मू-कश्मीर में तेजी से विकास हुआ है। इस फैसले से सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक अधिकार सुरक्षित हुए। महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यक समाज को भी फायदा हुआ।

50 नए इंस्टीट्यूट बनाए, 5 लाख कश्मीरी छात्रों को स्कॉलरशिप मिला
इस क्षेत्र में 50 नए इंस्टीट्यूट स्थापित किए गए हैं। यह काम 70 सालों में कभी नहीं हुआ है। करीब 5 लाख कश्मीरी छात्रों को सरकारी स्कॉलरशिप मिल रही है। इसके अलावा, जम्मू-कश्मीर सरकार ने युवाओं के लिए 10 हजार नौकरियों की घोषणा की है। 25 हजार और नौकरियां निकाली जा रही हैं। भारतीय दूतावास ने कहा विदेश से निवेश लाने के लिए करीब 150 एमओयू साइन हुए हैं। जम्मू-कश्मीर के दूरदराज के इलाकों में लगभग तीन लाख घरों में पानी और बिजली के कनेक्शन पहुंचाने पर काम हो रहा है।

पाकिस्तान फैला रहा अस्थिरता
भारतीय दूतावास ने यह भी कहा कि पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर में शांति को बिगाड़ने की कोशिश कर रहा है। पाकिस्तान ने एलओसी पर 2020 के केवल 7 महीनों में 3000 से अधिक बार सीजफायर तोड़कर आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश की है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पाकिस्तानी राजदूत मोइन उल-हक ने 7 अगस्त को आर्टिकल में लिखा था कि जम्मू-कश्मीर में तत्काल एक्शन लेने की जरूरत है। - फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3iEo34c

Comments

Popular posts from this blog

चीन ने कहा- हमारा समुद्री अधिकार नियम के मुताबिक, जवाब में ऑस्ट्रेलिया बोला- उम्मीद है आप 2016 का फैसला मानेंगे

अफगानिस्तान सीमा को खोलने की मांग कर रहे थे प्रदर्शनकारी, पुलिस ने फायरिंग की; 3 की मौत, 30 घायल

रूलिंग पार्टी की बैठक में नहीं पहुंचे ओली, भारत से बिगड़ते रिश्ते के बीच इस्तीफे से बचने की कोशिश