अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा- चीन ने उनके देश और दुनिया के साथ जो किया वह सोच से परे, उनसे बातचीत नहीं करना चाहता

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने मंगलवार को एक बार फिर कोरोनावायरस को लेकर चीन को घेरा है। ट्रम्प ने कहा कि वह चीन के साथ बातचीत करने को तैयार नहीं हैं। चीन ने अमेरिका और दुनिया के साथ जो किया है वह सोच से परे है।

बिडेन स्मार्ट नहीं कमजोर हैं: ट्रम्प
एरिजोना के युमा में प्रेस कॉन्फ्रेंस में ट्रम्प ने कहा, "मैंने चीन के साथ बातचीत टाल दी है। मैं उनसे अभी बात नहीं करना चाहता।" इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अगर नींद में रहने वाले जो बिडेन चुनाव जीतेंगे तो चीन हम पर हुकूमत करने लगेगा। बिडेन सबकुछ चीन को दे देंगे। बिडेन स्मार्ट नहीं हैं, वह कमजोर हैं।

कई चीनी कंपनियों पर लग सकता है प्रतिबंध
जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं ट्रम्प चीन पर हमलावर होते जा रहे हैं। इससे पहले 17 अगस्त को उन्होंने संकेत दिया था कि वह और भी चीनी कंपनी जैसे- ई-कॉमर्स साइट अलीबाबा पर प्रतिबंध लगाएंगे। ट्रम्प पहले ही चीनी कंपनी बाइटडांस को 90 दिन के अंदर टिकटॉक का अमेरिकी बिजनेस बेचने का आर्डर जारी कर चुके हैं। ट्रम्प ने कहा था कि उनके पास ऐसे सबूत हैं, जिनसे भरोसा होता है कि बाइटडांस अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर सकती है।

ये खबरें भी पढ़ सकते हैं...

1. ट्रम्प का चीनी कंपनी को आदेश:अमेरिकी राष्ट्रपति ने बाइटडांस से कहा- अमेरिका में 90 दिन में टिकटॉक बिजनेस बेचो, यह देश की सुरक्षा के लिए खतरा

2. ट्रम्प के खिलाफ केस:मुकदमा करने वालों ने कोर्ट से कहा- राष्ट्रपति पोस्टमास्टर जनरल के साथ मिलकर मेल इन बैलट से चुनाव कराने में अड़ंगा डाल रहे; पोस्टल डिपार्टमेंट की फंडिंग रुकवाई



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
अमेरिका में एरिजोना के युमा इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर कैंपेन के एक इवेंट के दौरान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2EiwjrG

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस