ट्रम्प विश्व नेतृत्व का दावा कर रहे, पर उन्हीं के ऑफिस में उथल-पुथल, अमेरिका में बेरोजगारी दर तिगुनी है: क्लिंटन

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से जो बिडेन (77) आधिकारिक प्रत्याशी होंगे। पार्टी के डिजिटल कन्वेंशन में उनके नाम पर मोहर लगाई गई। इस कन्वेंशन में पार्टी के सभी 50 राज्यों के प्रतिनिधि मौजूद थे। बिडेन गुरुवार को अपना स्वीकृति भाषण देंगे। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘आज मेरे लिए बड़े सम्मान का दिन है।’

पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन, जिम्मी कार्टर, पूर्व विदेश मंत्री कॉलिन पॉवेल ने बिडेन की उम्मीदवारी का समर्थन किया। क्लिंटन ने इस डिजिटल कन्वेंशन में कहा कि बिडेन ने पहले अमेरिका को मंदी से बाहर लाने में मदद की थी। एक बार फिर वह यह करेंगे। बिडेन अमेरिका को दोबारा संवारने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अपने 5 मिनट के भाषण में क्लिंटन ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर भी निशाना साधा।

उन्होंने कहा, ‘एक तरफ ट्रम्प कहते हैं कि आज अमेरिका दुनिया का नेतृत्व कर रहा है। दूसरी ओर उन्हीं के ऑफिस में उथल-पुथल मची हुई है। अमेरिका दुनिया के सबसे बड़े औद्योगिकीकरण वाली एकमात्र अर्थव्यवस्था है, लेकिन यहां बेरोजगारी दर तिगुनी है। जिम्मी कार्टर ने कहा कि बिडेन अमेरिकी इतिहास में सबसे अच्छे राष्ट्रपति साबित होंगे।

बिडेन की पत्नी जिल ने स्कूल से दिया भाषण

बिडेन की पत्नी जिल बिडेन ने इस डिजिटल कन्वेंशन में डेलावर के एक स्कूल से भाषण दिया। साथ में बिडेन भी थे। जिल ने कहा, ‘हमने दिखाया कि इस देश का दिल अब भी दया और हिम्मत के साथ धड़कता है। हमें देश के लिए ऐसे नेतृत्व की जरूरत है, जो आपके लिए योग्य हो।’ जिल इसी स्कूल में 1990 के दशक में अंग्रेजी की टीचर थीं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
क्लिंटन ने डिजिटल कन्वेंशन में कहा कि बिडेन ने पहले अमेरिका को मंदी से बाहर लाने में मदद की थी। एक बार फिर वह यह करेंगे।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3j1ebSt

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस