नीलम-झेलम नदी पर बन रहे डैम के खिलाफ लोगों में आक्रोश, इससे पीने के पानी की समस्या हुई; इसे चीन की कंपनी बनवा रही

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के मुजफ्फराबाद में बुधवार को लोगों ने चीनी फर्म के खिलाफ रैली निकाली। यहां नीलम-झेलम नदी पर चीन की कंपनी द्वारा मेगा-डैम बनवाया जा रहा है। रैली के दौरान स्थानीय ‘दरिया बचाव, मुजफ्फराबाद बचाव’ कमिटी के प्रोटेस्टर्स ‘नीलम-झेलम बहने दो, हमें जिंदा रहने दो’ का नारा लगा रहे थे।

हाल ही में, पाकिस्तान और चीन ने पीओके में अजाद पट्टन और कोहला हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट्स बनाने को लेकर समझौता किया था। चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) के तहत आजाद पट्टन हाइडेल पावर प्रोजेक्ट को लेकर 6 जुलाई को हस्ताक्षर किए गए थे। इससे 700.7 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा। 1.54 बिलियन डॉलर की इस प्रोजेक्ट को चीन के जियोझाबा ग्रुप कंपनी बना रहा है।

कोहाला हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्रोजेक्ट को झेलम नदी पर बनाया जाएगा। यह पीओके के सुधनोटी जिले में आजाद पट्टन ब्रिज से लगभग 7 किमी और पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद से 90 किमी दूर है। इस प्रोजेक्ट के 2026 तक पूरा होने की उम्मीद है। इसे चीन के थ्री गोरजेस कॉर्पोरेशन, इंटरनेशनल फाइनेंस कॉर्पोरेशन और सिल्क बैंक फंड द्वारा बनाया जाएगा।

पीओके के लोगों का सुनना वाला कोई नहीं

पीओके के पॉलिटिकल एक्टिविस्ट डॉ. अमजद आयुब मिर्जा ने एएनआई से कहा- पीओके में इस तरह के प्रोटेस्ट लंबे समय से चल रहे हैं, लेकिन कोई इनकी सुनने वाला नहीं है। चीन की थ्री गोरजेस कॉर्पोरेशन इन बिलियन डॉलर की प्रोजेक्ट का निर्माण कर रही है। उन्होंने नदियों का रास्ता बदल दिया है। इसके चलते मुजफ्फराबाद में प्रोटेस्ट हो रहे।

नदी में गंदा पानी भरा

उन्होंने कहा- जहां पहले नीलम नदी उफान मारती थी, वहीं यह अब एक छोटे नाले जैसी लगती है। इसने स्थानीय लोगों को बुरी तरह प्रभावित किया है, क्योंकि उनके पास पीने का पानी भी नहीं है। नदी में गंदा पानी भर गया है।

पीओके में चीन और पाकिस्तान के खिलाफ नाराजगी

सीपीईसी के तहत पीओके और गिलगित बाल्टिस्तान के प्राकृतिक संसाधनों को पाकिस्तान और चीन मिलकर लूट रहे हैं। कब्जे वाले क्षेत्रों में पाकिस्तान और चीन के खिलाफ नाराजगी काफी बढ़ गई है।

ये भी पढ़ें

गिलगित-बाल्टिस्तान में संसाधनों की लूट:पाकिस्तान ने चीनी कंपनियों को सोना, यूरेनियम के खनन के लिए पट्‌टे जारी किए, अंतरराष्ट्रीय नियमों और खुद के संविधान तक की धज्जियां उड़ाई



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
नीलम-झेलम पर डैम बनाए जाने से नदियों का रास्ता बदल गया है। (फाइल फोटो)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2DMIc9q

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस