पंडित जसराज के नाम पर सौरमंडल में रखा गया था ग्रह का नाम, उनकी जन्मतिथि से एकदम उल्टा था ग्रह का नंबर

मधुराष्टकम् को घर-घर तक पहुंचाने वाले शास्त्रीय गायक पंडित जसराज का 90 साल की उम्र में अमेरिका में निधन हो गया। आज हमारे बीच पंडित जसराज सशरीर भले ही मौजूद ना हों, पर उनकी आवाज और उनका अस्तित्व हमेशा रहेगा। 13 साल पहले नासा ने एक गृह का नाम ही पंडित जसराज के नाम पर रखा था। यह सम्मान पाने वाले वह पहले भारतीय कलाकार थे। खास बात ये थी कि इस गृह का नंबर पंडित जसराज की जन्मतिथि से उलट था।

बृहस्पति और मंगल के बीच परिक्रमा लगाते ग्रह का नाम पंडित जसराज रखा गया।

नासा और इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉमिकल यूनियन के वैज्ञानिकों ने बृहस्पति और मंगल के बीच 300128 नंबर का ग्रह खोजा था और इसका नाम पंडित जसराज के नाम पर रखा। पंडित जसराज की जन्मतिथि 28/01/1930 है। ग्रह के नंबर के उलट। नासा ने कहा था- पंडित जसराज ग्रह हमारे सौरमण्डल में गुरु और मंगल के बीच रहते हुए सूर्य की परिक्रमा कर रहा है।

8 दशक संगीत साधना को देने वाले पंडित जसराज ने ग्रह के नामकरण पर कहा था- मुझे तो ईश्वर की असीम कृपा दिखती है। भारत और भारतीय संगीत के लिए ईश्वर का आशीर्वाद है।

माइनर प्लानेट है पंडित जसराज

माइनर प्लानेट वह ग्रह होते हैं जो न तो ग्रह हैं न ही इन्हें पूरी तरह से धूमकेतु कहा जा सकता है। बेटी दुर्गा ने बताया था कि पंडित जसराज ग्रह के बारे में आईएयू ने 23 सितंबर 2019 को इस बात की घोषणा की थी और एक पत्र मुंबई स्थित घर पर पहुंचाया था।

जसरंगी जुगलबंदी रचा, मधुराष्टकम् प्रिय था
पंडित जसराज ने एक अनोखी जुगलबंदी की रचना की। इसमें महिला और पुरुष गायक अलग-अलग रागों में एक साथ गाते हैं। इस जुगलबंदी को जसरंगी नाम दिया गया।
श्री वल्लभाचार्य जी द्वारा रचित भगवान कृष्ण की बहुत ही मधुर स्तुति है मधुराष्टकम्। पंडित जसराज ने इस स्तुति को अपने स्वर से घर-घर तक पहुंचा दिया। पंडित जी अपने हर एक कार्यक्रम में मधुराष्टकम् जरूर गाते थे। इस स्तुति के शब्द हैं -अधरं मधुरं वदनं मधुरं, नयनं मधुरं हसितं मधुरं। हृदयं मधुरं गमनं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरं॥

पंडित जसराज से जुड़ी ये खबर भी पढ़ें...
1. पंडित जसराज का 90 साल की उम्र में अमेरिका में निधन; वे सातों महाद्वीप में प्रस्तुति दे चुके थे



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
श्री वल्लभाचार्य जी द्वारा रचित भगवान कृष्ण की स्तुति मधुराष्टकम् को पंडित जसराज ने अपने स्वर से घर-घर तक पहुंचा दिया है। - फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3kUf6ph

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे