चीन सरकार का सेना को आदेश- अमेरिका से तनाव कम करो, किसी भी हाल में पहली गोली हमारी तरफ से न चले

दक्षिण चीन सागर में छोटे देशों को धमकाने वाला चीन अमेरिका के तीखे तेवरों से बैकफुट पर आ गया। शी जिनपिंग सरकार ने सेना को एक आदेश जारी किया है। इसमें कहा गया है कि चीनी नेवी साउथ चाइना सी में ऐसा कोई कदम न उठाए जिससे इस क्षेत्र में तनाव बढ़े। इतना ही नहीं, चीनी सेना को आदेश दिया गया है कि वो किसी भी हाल में पहली गोली अपनी तरफ से न चलाए।

चीन इस क्षेत्र के छोटे देशों जैसे फिलिपींस और ताइवान को धमकाने के साथ ही कुछ नए द्वीपों पर कब्जा करने की कोशिश कर रहा था। अमेरिका ने इन देशों से मदद का वादा किया। पिछले महीने अपने दो वॉरशिप दक्षिण चीन सागर में तैनात कर दिए। इसके बाद चीन के तेवर ढीले पड़ गए।

टकराव से बचने की हर मुमिकन कोशिश करो
‘द डिप्लोमैट’ वेबसाइट चीन और अमेरिका के बीच तनाव पर एक रिपोर्ट पब्लिश की है। इसमें चीन के एक अफसर के हवाले से कहा गया- दक्षिण चीन सागर में तैनात चीन की नेवी को सरकार ने साफ आदेश दिए हैं कि किसी भी अमेरिकी जहाज या प्लेन पर किसी भी हालत में अपनी तरफ से पहला फायर नहीं किया जाए। जहां तक हो सके हालात को काबू में रखा जाए और तनाव कम करने की कोशिश की जाए।

ट्रम्प का सख्त रुख काम आया
पूरे दक्षिण चीन सागर पर कब्जे की साजिश रचते चीन को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प कुछ महीनों से लगातार वॉर्निंग दे रहे थे। पिछले महीने अमेरिकी नेवी ने अपने दो सबसे ताकतवर और आधुनिक वॉरशिप यूएसएस रोनाल्ड रीगन और यूएसएस निमित्ज को इस क्षेत्र में तैनात किया। इन वॉरशिप्स पर मौजूद फाइटर जेट्स ने शंघाई से 75 किलोमीटर दूर तक उड़ान भरी। चीनी सेना के हर मूवमेंट को रिकॉर्ड किया गया। ट्रम्प ने कहा था- चीन महामारी का फायदा उठा रहा है। हम ऐसा नहीं होने देंगे।

दोनों रक्षा मंत्रियों की बातचीत भी हुई
रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले हफ्ते चीन के डिफेंस मिनिस्टर ने अमेरिकी डिफेंस मिनिस्टर से बातचीत की थी। इस दौरान अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने चीन के डिफेंस मिनिस्टर से साफ कह दिया था कि तनाव कम करने या रोकने की जिम्मेदारी चीन की है। एस्पर ने कहा था- अमेरिका किसी भी आक्रामक रवैये को सहन नहीं करेगा, इसका जवाब दिया जाएगा।

1998 में हुआ था समझौता
1998 में चीन और अमेरिका ने एक समझौता किया था। इसके तहत सैन्य तनाव बढ़ने पर उसे कम करने के लिए बातचीत का मैकेनिज्म तैयार किया गया था। शीत युद्ध के दौर में अमेरिका और तत्कालीन सोवियत संघ के बीच भी ऐसा ही करार हुआ था। हालांकि, अमेरिका और चीन के बीच गंभीर सैन्य तनाव कभी नहीं हुआ, लिहाजा इस समझौते की भी जरूरत नहीं पड़ी।

चीन और अमेरिका से जुड़ी ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं...

1. ट्रम्प ने कहा- चीन चाहता तो आराम से कोरोनावायरस रोक सकता था, उसने जानबूझकर इसे फैलने दिया

2. विदेश मंत्री पोम्पियो ने कहा- चीन के दावों का कोई आधार नहीं, दुनिया उसे वहां अपना जल साम्राज्य मानने की इजाजत नहीं देगी



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो 28 मई 2020 की है। तब अटलांटिक महासागर में तैनात अमेरिकी वॉरशिप यूएसएस वेस्प पर एमवी-22 फाइटर जेट का लैंडिंग टेस्ट किया गया था। अब यह वॉरशिप साउथ चाइना सी में पेट्रोलिंग कर रहा है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2PTGxBC

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे