अमेरिकी एनएसए ने कहा- सितंबर और अक्टूबर में भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ रणनीति बनाएंगे, चीन के व्यवहार बेहद आक्रामक

साउथ चाइनना सी समेत दुनिया के कई हिस्सों में चीन के रुख को अमेरिका ने बेहद आक्रामक बताते हुए इसका मुकाबला करने की तैयारी पर जोर दिया है। अमेरिका के एनएसए रॉबर्ट ओब्रायन ने साफ कर दिया है कि सितंबर और अक्टूबर में अमेरिका, भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के अफसर मुलाकात करके रणनीति तैयार करेंगे। ब्रायन ने कहा- चीन का रवैया बेहद आक्रामक है और अमेरिका जानता है कि इससे कैसे निपटना है।

पहले पोम्पियो करेंगे बातचीत
ब्रायन ने कहा कि अफसरों की मीटिंग से पहले विदेश मंत्री माइक पोम्पियो भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्रियों से बातचीत करेंगे। इस दौरान मीटिंग का एजेंडा तय होगा। उन्होंने कहा- हिंद महासागर में चीन की हरकतें सहन नहीं की जा सकतीं।

चीन को तीन तरफ से घेरा जाएगा
ब्रायन ने कहा हिंद महासागर और दक्षिण चीन सागर में चीन जो कर रहा है, उसका मुकाबला सटीक तरीके से किया जाएगा। अमेरिका यहां बड़ी भूमिका निभाने के लिए तैयार है। हम कूटनीतिक, सैन्य और आर्थिक स्तर पर इस मुकाबले की रणनीति तैयार करने जा रहे हैं। चीन को अपनी हरकतों का खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

समुद्र पर चीन का हक नहीं
एक सवाल के जवाब में रॉबर्ट ने कहा- चीन को यह समझ लेना चाहिए कि वो दुनिया के किसी समुद्री क्षेत्र को सिर्फ अपना नहीं बता सकता। इनके इस्तेमाल का हक सभी को है। यह ठीक वैसा है जैसे एयरस्पेस के मामले में हम करते हैं। लिहाजा, समुद्री रास्ते से आवाजाही में कोई रुकावट खड़ी नहीं कर सकता। अगर इसकी कोशिश या साजिश होती है तो अमेरिका और उसके सहयोगी जवाब देना जानते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
वॉशिंगटन में शनिवार को मीडिया से बातचीत के दौरान अमेरिका के एनएसए रॉबर्ट ओब्रायन। रॉबर्ट ने कहा- चीन दुनिया के किसी समुद्री रास्ते को अपने फायदे के लिए बंद नहीं कर सकता। अमेरिका और उसके सहयोगी ऐसा नहीं होने देंगे।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3hFp2B6

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस