पैगंबर मुहम्मद के कार्टून दोबारा छापने पर शार्ली एब्दो को मिली हमले की धमकी, 2015 में अलकायदा ने यहां हमला कर 12 लोगों की हत्या की थी

अलकायदा ने एक बार फिर फ्रांस की मैगजीन शार्ली एब्दो को हमले की धमकी दी है। दरअसल, शार्ली एब्दो ने हाल ही में दोबारा पैगंबर मुहम्मद से जुड़े कार्टून छापे हैं। ये वही कार्टून हैं, जिनकी वजह से 2015 में उस पर आतंकी हमला हुआ। शार्ली एब्दो के कार्टूनिस्ट व्यंग करते हुए विभिन्न धर्मों की कमियां दिखाते हैं। वे पहले ईसाई, यहूदी के भी कार्टून छाप चुके हैं। हालांकि, इस्लाम धर्म से जुड़े कार्टून छापने पर उन पर आतंकी हमला हो गया था।

अलकायदा ने अमेरिका में 9/11 हमले के 19 साल पूरे होने पर अपनी अंग्रेजी मैगजीन 'वन उम्माह' छापी है। इसके जरिए उसने चेतावनी दी कि शार्ली एब्दो अगर मानता है कि उस पर केवल एक बार ही हमला होगा तो यह उसकी गलती है। इसमें कहा गया- फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने मैगजीन को कार्टून छापने के लिए हरी झंडी दी है। मैक्रों को हम वही मैसेज देना चाहते हैं, जो उनसे पहले पहले के राष्ट्रपति फ्रैंकोइस हॉलैंड को दिया था।

2 सितंबर से शुरू हुई है हमले की सुनवाई
दरअसल, 2 सितंबर से शार्ली एब्दो पर हमले की सुनवाई शुरू हुई है। इसमें हमले में शामिल आतंकियों की मदद करने के आरोपी 14 लोगों पर मुकदमा चलेगा। शार्ली एब्दो ने सुनवाई के पहले पैगंबर मुहम्मद के कार्टून 1 सितंबर को ऑनलाइन वर्जन और 2 सितंबर के प्रिंट एडिशन में छापे थे।

2015 के हमले में 12 लोग मारे गए थे
फ्रांस की इस मैगजीन के हेडऑफिस पर 7 जनवरी 2015 में आतंकी हमला हुआ था। यह हमला अलकायदा की यमन ब्रांच ने किया था। वजह मैगजीन का पैगंबर मुहम्मद और इस्लाम से जुड़े कार्टून छापना था। इस हमले में फ्रांस के मशहूर कार्टूनिस्टों समेत 12 लोगों की जान गई थी।

मैगजीन के डायरेक्टर ने क्या कहा?
शार्ली एब्दो के डायरेक्टर लॉरेंट सॉरीसेऊ ने कहा है कि उन्हें फिर से कार्टून छापने से कोई अफसोस नहीं है। 2015 में हमले के दौरान लॉरेंट भी गंभीर रूप से घायल हो गए थे। कोर्ट में सुनवाई के दौरान उन्होंने कहा- अफसोस इस बात का है कि आजादी की रक्षा के लिए कितने कम लोग लड़ते हैं। यदि हम अपनी स्वतंत्रता के लिए नहीं लड़ते तो हम एक गुलाम की तरह रहते हैं और एक घातक विचारधारा को बढ़ावा देते हैं। कार्टून को दोबारा छापने पर उन्होंने कहा- सुनवाई की शुरुआत के मौके पर अगर वे यह कार्टून नहीं छापते तो यह साबित होता कि उन्होंने पहले कार्टून छापकर गलती की थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
शार्ली ऐब्दो के कार्टूनिस्ट किसी भी मुद्दे पर व्यंग करते हुए कार्टून छापते हैं।- फाइल पोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33lNrpr

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे