अमेरिकन एयरोस्पेस ने स्पेसक्राफ्ट का नाम कल्पना चावला पर रखा, 29 सितंबर को वर्जिनिया से इसे लॉन्च किया जाएगा

अमेरिका के एक कमर्शियल कार्गो स्पेसक्राफ्ट का नाम भारतीय एस्ट्रोनॉट कल्पना चावला के नाम पर रखा गया है। अमेरिकन एयरोस्पेस कंपनी नार्थरोप ग्रुमैन ने बुधवार को इसका ऐलान किया। कंपनी ने कहा, ‘‘हमने नासा की भारतीय मूल की पहली महिला एस्ट्रोनॉट कल्पना चावला को सम्मान देने के लिए अपने अगले सिग्नस कैप्सूल का नाम ‘एस एस कल्पना चावला’ रखने का फैसला किया है। उन्होंने 2001 में कोलंबिया स्पेस मिशन के लिए अपनी जिंदगी कुर्बान कर दी थी। ह्यूमन स्पेस फ्लाइट के क्षेत्र में उनका काम लंबे समय तक याद रखा जाएगा।’’

कंपनी ने अपनी वेबसाइट पर लिखा- नार्थरोप ग्रुमैन हर बार अपने स्पेसक्राफ्ट का नाम ऐसे लोगों पर रखता है, जिन्होंने अंतरिक्ष के क्षेत्र में शानदार काम किया हो। हमें अपने स्पेसक्राफ्ट का नाम कल्पना चावला के नाम पर रखकर गौरव महसूस हो रहा है।

29 सितंबर को लॉन्च होगा कल्पना चावला स्पेसक्राफ्ट

यह स्पेसक्राफ्ट 29 सितंबर को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के लिए लॉन्च किया जाएगा। इस मिशन का नाम एनजी-14 रखा गया है। इसे कंपनी के एंटारेस रॉकेट की मदद से लॉन्च किया जाएगा। लॉन्चिंग वर्जिनिया स्थित नासा के स्पेस सेंटर से होगी। यह दो दिन के बाद इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (आईएसएस) पहुंच जाएगा। इसकी मदद से आईएसएस पर 362 किग्रा सामान पहुंचाया जाएगा।

स्पेस मिशन से लौटते वक्त हुई थी कल्पना की मौत

कल्पना का जन्म 17 मार्च 1962 को हरियाणा के करनाल में हुआ था। शुरुआती पढ़ाई में भारत करने के बाद वह अमेरिका चली गईं थीं। वहां से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में मास्टर्स की डिग्री करने के बाद उन्हें नासा में काम करने का मौका मिला। वह नासा के एक मानव मिशन को पूरा कर चुकीं थीं। 2001 में वह दूसरे मिशन से लौटते वक्त नासा का स्पेसक्राफ्ट क्रैश हो गया था। इसमें कल्पना चावला समेत स्पेसक्राफ्ट में सवार 6 एस्ट्रोनॉट्स की जान चली गई थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कल्पना चावला का जन्म हरियाणा के करनाल में हुआ था। वे भारत में पैदा हुईं ऐसी पहली महिला एस्ट्रोनॉट थीं जो अमेरिकन स्पेस मिशन का हिस्सा रहीं थीं। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3iis0vV

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस