ग्लोबल टाइम्स ने लिखा- भारत को ओवर कॉन्फिडेंस, उसके सैनिकों ने 45 साल बाद पहली बार सीमा पर गोलियां चलाईं ; चीन जवाब देगा

लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर भारतीय सेना के एक्शन से बौखलाए चीन के सरकारी अखबार ने भारत को धमकी दी। ग्लोबल टाइम्स ने लिखा- भारत ओवर कॉन्फिडेंस में है। चीन की सेना और लोगों को उकसा रहा है। भारतीय सैनिकों ने गैरकानूनी तरीके से एलएसी क्रॉस की। उसके सैनिक दोनों देशों के समझौते तोड़कर वॉर्निंग फायर कर रहे हैं। ऐसा 45 साल बाद पहली बार हुआ है। वे दिखाना चाहते हैं कि वे बंदूक के इस्तेमाल को लेकर हुए पुराने समझौते को नहीं मानते। अगर ऐसा है, तो दोनों देशों को बॉर्डर पर खूनी युग के एक नए दौर के लिए तैयार हो जाना चाहिए।

भारत ने एलएसी पर कई अहम इलाकों पर बढ़त बना ली है। चीनी सेना के वेस्टर्न थिएटर कमांड के प्रवक्ता कर्नल झांग शुइली ने मंगलवार को कहा- भारतीय सेना पैगॉन्ग सो झील के दक्षिण इलाके में शेनपाओ पहाड़ी क्षेत्र में पहुंच चुकी है। उन्हें रोकने गए चीनी सैनिकों पर फायरिंग हुई। हमारे सैनिकों को मामला शांत करने के लिए जरूरी कदम उठाने पड़े।

जून में हुई झड़प के बाद भी गोलियां नहीं चलीं थीं

ग्लोबल टाइम्स ने लिखा- भारत और चीन की सीमा पर 40 साल से शांति है। कई बार मिलिट्री स्टैंड ऑफ यानी सैन्य टकराव के हालात बने। कोई गंभीर सैन्य संघर्ष नहीं हुआ। दोनों देश तनाव होने पर बंदूकों के इस्तेमाल से बचते रहे। जून की झड़प में कुछ जानें गईं थीं, लेकिन उस वक्त भी फायरिंग नहीं हुई।

सीमा विवाद को लेकर भारत दबाव में है

चीन के सरकारी अखबार के मुताबिक- भारत इस साल जून में लद्दाख घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद तनाव में है। भारत सरकार ने सीमा पर तैनात अपने सैन्य कमांडर्स को एक्शन की पूरी छूट दे दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने जुलाई में लद्दाख दौरा किया। लद्दाख स्टैंड ऑफ के 4 महीने बीत चुके हैं। यह डोकलाम विवाद से भी लंबा खिंच चुका है। ऐसे में भारत चाहता है कि जल्द से जल्द मामला सुलझ जाए। यही वजह है कि भारत एलएसी पर तनाव पैदा कर रहा है। भारत अब चीन पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है।

‘भारत बड़ी बड़ी बातें कर रहा’

ग्लोबल टाइम्स ने लिखा- भारत का बर्ताव अकड़ वाला है। नई दिल्ली के मुताबिक, उसने पैगॉन्ग सो झील के पास चीन की दो पहाड़ियों पर कब्जा कर लिया है। अब चीन के सैनिक भारतीय सैनिकों की राइफल रेंज में हैं। भारत कूटनीतिक संबंधों को लेकर चीन को धमकी दे रहा है। उसे लगता है कि चीन उससे मदद मांगेगा।

भारत को गंभीर चेतावनी देनी होगी

अखबार ने आगे लिखा- भारत को गंभीर चेतावनी देनी होगी। बताना होगा कि आप अपनी लाइन क्रॉस कर चुके हैं। भारत ने राष्ट्रवाद साबित करने के लिए एलएसी क्रॉस की है। अब उसे दो बार सोचना चाहिए। उनसे बंदूकों को इस्तेमाल न करने वाला समझौता भी तोड़ दिया। चीन के दो कमांडिंग पोस्ट कब्जे में लेने का क्या फायदा होगा। क्या इस दौर में कमांडिंग हाइट्स (चोटियों पर मोर्चा) मायने रखते हैं? किसके पास ज्यादा हथियार हैं? किसका मिलिट्री बजट ज्यादा है? क्या भारत गिनती भी कर पाएगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो जुलाई की है। तब रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लद्दाख दौरे पर गए थे। यहां उन्होंने सैनिकों से मुलाकात की थी। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2DIMQ8C

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान