यूएन में महिलाओं की अहम कमेटी का सदस्य बना भारत; 54 सदस्यों की वोटिंग में चीन तो आधे वोट भी नहीं मिले

संयुक्त राष्ट्र यानी यूएन में भारत को एक बड़ी कामयाबी मिली। भारत को कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वुमन (सीएसडब्लू) का सदस्य चुन लिया गया है। यह कमेटी यूएन की ही इकोनॉमिक एंड सोशल काउंसिल (ईसीओएसओसी) का हिस्सा है। भारत का कार्यकाल 2021 से 2025 तक रहेगा। कमेटी में चुनाव के लिए 54 मेंबर्स ने वोटिंग की। भारत को सबसे ज्यादा वोट मिले। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, चीन को कुल वोटों के आधे भी नहीं मिल सके।

तिरूमूर्ति ने दी जानकारी
यूएन में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने इस बारे में जानकारी देने के लिए ट्वीट किया। कहा, “भारत ने यूएन की एक अहम काउंसिल ईसीओएसओसी की सीएसडब्लू कमेटी में जगह बनाई है। यह बताता है कि लैंगिग समानता और महिला सशक्तिकरण को लेकर हम कितने गंभीर प्रयास कर रहे हैं। समर्थन देने वाले देशों के हम शुक्रगुजार हैं।” ट्वीट में भारतीय विदेश मंत्रालय को भी टैग किया गया है।

तीन देश दौड़ में थे
न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सीएसडब्लू का मेंबर बनने के लिए भारत, चीन और अफगानिस्तान दौड़ में थे। 54 देशों की वोटिंग में भारत और अफगानिस्तान को जीत मिली। चीन को भारत के मुकाबले आधे वोट भी नहीं मिल पाए। सीएसडब्लू जेंडर इक्वेलिटी यानी लैंगिग समानता के क्षेत्र में काम करती है। 1946 में यह कमेटी बनाई गई थी। ईसीओएसओसी में एक वक्त में 45 सदस्य होते हैं। 11 सदस्य एशिया से चुने जाते हैं। इनके अलावा 9 लैटिन अमेरिका और कैरेबियाई देशों से, 8 पश्चिमी यूरोप और चार पूर्वी यूरोप से होते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
भारत को यूएन कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वुमन (सीएसडब्लू) का सदस्य चुन लिया गया है। यह कमेटी यूएन की ही इकोनॉमिक एंड सोशल काउंसिल (ईसीओएसओसी) का हिस्सा है। (प्रतीकात्मक)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3kirMoT

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान