74 साल के ट्रम्प के सामने 77 साल के बाइडेन; ट्रम्प कहते हैं कि बाइडेन डिमेंशिया से पीड़ित हैं, लेकिन खुद के मिनी स्ट्रोक्स को लेकर सवालों के घेरे में

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प अपने जीवन के अधिकतर मौकों पर खुद को एक सुपरमैन के रूप में पेश करते रहे हैं। एक ऐसा व्यक्ति, जिसके पास अथाह ताकत है जो कम सोता है, शायद ही कभी बीमार पड़ता है और जवानी के दिनों में खेल के मैदान में भी शानदार था। एक बार उन्होंने अपने डॉक्टर के हवाले से कहा था कि वह राष्ट्रपति बनने वाले अब तक के सबसे स्वस्थ व्यक्ति हैं।

74 साल के ट्रम्प अब दूसरी बार मैदान पर हैं। उनका सामना 77 साल के जो बाइडेन से है। इनमें से जो भी चुना जाएगा, वह अभी तक का सबसे ज्यादा उम्र वाला राष्ट्रपति होगा। अमेरिका में राष्ट्रपति पद के चुनावों में उम्मीदवारों की सेहत के सवाल ने कभी-कभी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। लेकिन, इस साल यह ज्यादा बड़ा मुद्दा बन रहा है।

ट्रम्प ने कहा है कि बाइडेन दवाओं पर चल रहे
राष्ट्रपति ट्रम्प लगातार कहते रहे हैं कि बाइडेन डिमेंशिया जैसी किसी बीमारी से जूझ रहे हैं। ट्रम्प ने पिछले हफ्ते बिना किसी सबूत के दावा किया था कि बाइडेन दवाओं पर चल रहे हैं। ट्रम्प ने चार साल पहले यही रणनीति डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन के खिलाफ भी अपनाई थी।

मंगलवार रात को ट्रम्प ने फॉक्स न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि डिबेट से पहले उन्हें और बाइडेन को ड्रग टेस्ट कराना चाहिए। उन्होंने 2016 में क्लिंटन को भी यही चैलेंज दिया था। क्लिंटन की तरह बाइडेन ने भी ट्रम्प के इस चैलेंज को नकार दिया है।

ट्रम्प ने चुपचाप खुद का इलाज करवाया
हाल ही में ट्रम्प की मानसिक और शारीरिक स्थिति पर सवाल उठ रहे हैं। ऐसे में उनके लिए अपने विपक्षी जो बाइडेन की सेहत पर सवाल उठाना मुश्किल हो गया है। ट्रम्प ने इस हफ्ते एक क्रिटिक्स के ट्वीट पर जवाब देकर इस मुद्दे को फिर से गरमा दिया है। कहा जाता है कि ट्रम्प को हल्के दौरे (मिनी स्ट्रोक्स) पड़ते हैं।

वह पिछले साल नवंबर में चुपचाप मैरीलैंड के वाल्टर रीड नेशनल मिलिट्री सेंटर के हॉस्पिटल में एडमिट रहे थे। ट्रम्प ने इस दावे को नकारा है। उन्होंने इस पर कभी सीधा जवाब नहीं दिया, इससे और सवाल उठे। ट्रम्प की यह ट्रिप हमेशा सवालों के घेरे में रहेगी।

जब पानी पीना तक मुश्किल पड़ गया
हास्पिटल विजिट के कुछ महीनों बाद ट्रम्प वेस्ट प्वाइंट में मिलिट्री एकेडमी के समारोह में हिस्सा लेने पहुंचे। इस दौरान वह पानी का गिलास तक सही से नहीं पकड़ पा रहे थे। पानी पीने के लिए उन्हें दोनों हाथों से गिलास पकड़ना पड़ा। साथ ही उन्हें डर था कि अगर वी सीढ़ियां चढ़े तो गिर सकते हैं, इसलिए उन्होंने रैंप का इस्तेमाल किया।

न्यूयॉर्क टाइम्स के रिपोर्टर माइकल एस श्मिट ने अपनी किताब 'डोनाल्ड ट्रम्प वर्सेस यूनाइटेड स्टेट्स' में लिखा है कि समारोह के दौरान माइक पोम्पियो को स्टैंडबाई पर रखा गया था ताकि अगर ट्रम्प को एनेस्थीसिया की जरूरत पड़े तो वह स्थिति संभाल लें।

खबर आई तो आगबबूला हुए ट्रम्प
माइकल एस श्मिट की किताब को पढ़ने के बाद पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के कार्यकाल के दौरान व्हाइट हाउस में प्रेस सेक्रेटरी रहे जो लॉकहर्ट ने ट्वीट किया, "क्या डोनाल्ड ट्रम्प को दौरे आते हैं, जिसको अमेरिकी जनता से छिपाया जा रहा है?" ट्रम्प ने अगली सुबह जब यह खबर देखी तो गुस्से से आगबबूला हो गए।

उन्होंने ट्वीट कर इन खबरों को नकारा। इसके साथ ही उन्होंने व्हाइट हाउस के फिजीशियन को अपना ट्वीट फॉलो करने और इस बात को कन्फर्म करने के लिए कहा कि वह ठीक हैं। इसके बाद ट्रम्प के कैंपेन ने बाइडेन की सेहत को मुद्दा बनाना शुरू किया। उन्होंने बाइडेन के बारे में कहा कि वह वास्तव में बीमार हैं।

ओवरवेट हैं ट्रम्प
पिछले हफ्ते ही न्यूयॉर्क टाइम्स के साथ एक इंटरव्यू में बिना पूछे ही वह अपनी सेहत की जानकारी देने लगे। उन्होंने कहा, "मैं अच्छा महसूस करता हूं। मुझे लगता है कि मैं चार साल पहले की तुलना में ज्यादा बेहतर महसूस करता हूं।"

पिछली बसंत मे ट्रम्प का वजन 244 पाउंड (करीब 110 किलो) था। वह ओवरवेट हैं। ट्रम्प चीजबर्गर को स्वस्थ भोजन के रूप में पसंद करते हैं। गोल्फ के अलावा वह किसी भी एक्सरसाइज से नफरत करते हैं, उनका मानना है कि इससे ऊर्जा खत्म होती है।

2018 में हुए कोरोनरी कैल्शियम सिटी स्कैन से पता चलता है कि उनमें 70 की उम्र में करीब सभी लोगों में होने वाली हृदय समस्या है। जिसे कोलेस्ट्राल को कम करते और बेहतर डाइट लेकर सही किया जा सकता है।

अमेरिका चुनाव से जुड़ी ये खबर भी पढ़ सकते हैं...

1. अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव:ट्रम्प का गैरकानूनी सुझाव: कहा- नॉर्थ कैरोलिना के लोग दो बार वोटिंग करें, एक बार बैलेट से और दूसरी बार पोलिंग स्टेशन जाकर; इससे सिस्टम की जांच हो जाएगी



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
अमेरिका में राष्ट्रपति पद के चुनावों में उम्मीदवारों की सेहत के सवाल ने कभी-कभी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। लेकिन, इस साल यह ज्यादा बड़ा मुद्दा बन रहा है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3i13GP0

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान