कोर्ट ने नवाज शरीफ को रिश्वत मामले में दोषी करार दिया, पूर्व राष्ट्रपति जरदारी और पूर्व पीएम गिलानी भी दोषी पाए गए

पाकिस्तान के एक एंटी करप्शन कोर्ट ने बुधवार को तोशाखाना रिश्वत मामले में अहम फैसला सुनाया। कोर्ट ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को भगोड़ा घोषित कर दिया। वहीं, पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी और पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी को दोषी करार दे दिया। केस की सुनवाई कर रहे जज असगर अली ने पाकिस्तान में नवाज की सभी संपत्तियों का ब्यौरा सौंपने को कहा है। वहीं, दोषी करार दिए गए अन्य आरोपियों को 7 दिन के भीतर कोर्ट में पेश होने के लिए कहा गया है।

70 साल के शरीफ का लंदन में पिछले साल नवंबर से इलाज चल रहा है। लाहौर हाईकोर्ट से उन्हें सिर्फ 4 हफ्ते के लिए देश से बाहर जाने की इजाजत दी गई थी, लेकिन वे अब तक नहीं लौटे हैं। कोर्ट की ओर से बार-बार सम्मन भेजे जाने के बाद भी नवाज पेश नहीं हुए। इसे देखते हुए उन्हें भगोड़ा घोषित कर दिया गया। अब कोर्ट ने विदेश मंत्रालय को लंदन के पाकिस्तान दूतावास के जरिए नवाज के खिलाफ वारंट जारी करवाने को कहा है।

आरोपियों ने तोहफे में मिली गाड़ियों का इस्तेमाल किया

कोर्ट ने माना कि तोशाखाना मामले में आरोपियों ने भ्रष्टाचार किया। इससे पाकिस्तान के राज्यकोष को नुकसान हुआ। इस मामले में शरीफ पर तोशाखाना से सिर्फ 15% कीमत अदा कर गाड़ियां लेने का आरोप है। पूर्व पीएम गिलानी पर आरोप है कि उन्होंने जरदारी को तोशाखाना से गाड़ियां दिलवाने के लिए नियमों में फेरबदल किया। तोशाखाना में दूसरे देशों से तोहफे में मिली महंगी गाड़ियों को रखा जाता था। सभी आरोपियों ने इन गाड़ियों को कम कीमत पर लेकर निजी इस्तेमाल किया। इसके लिए रिश्वत का लेन-देन भी हुआ।

अगली सुनवाई 24 सितंबर को होगी

तोशाखाना रिश्वत मामले में अब अगली सुनवाई 24 सितंबर को होगी। कोर्ट ने मामले के सभी गवाहों को इस दिन पेश होने के लिए कहा है। इससे पहले कोर्ट ने जरदारी की दो बीएमडब्ल्यू और लेक्सस कार और नवाज की मर्सिडीज कार जब्त करने का भी आदेश दिया था। इस मामले में शिकायत दर्ज कराने वाले नेशनल अकाउंटबिलिटी ब्यूरो के मुताबिक, जरदारी ने राष्ट्रपति रहने के दौरान तोशाखाना से लीबिया और संयुक्त अरब अमीरात से मिली कार ली थी। उन्होंने इनका इस्तेमाल करने के बाद वापस तोशाखाना में जमा नहीं करवाया।

लंदन जाने से पहले जेल में बंद थे नवाज

नवाज शरीफ पाकिस्तान में भ्रष्टाचार के दो मामलों में आरोपी हैं। इनमें से एक अल अजीजीयाह भ्रष्टाचार मामला है, जिसमें उनपर रिश्वत लेने का आरोप है। कोर्ट ने उन्हें इस मामले में 7 साल की सजा सुनाई थी। लंदन जाने से पहले वे इसी मामले में लाहौर की कोट लखपत जेल में बंद थे। दूसरा तोशाखाना भ्रष्टाचार मामला है जिसमें बुधवार को उन्हें फरार घोषित किया गया। इसी मामले में शरीफ को 17 अगस्त तक पेश होने के लिए कहा था। ऐसा न करने पर कोर्ट ने उनके खिलाफ नॉन बेलेबल वारंट जारी किया था।

अलग-अलग देशों के राजनेताओं से जुड़ी ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं...

1. मलेशिया के पूर्व पीएम दोषी:नजीब रजाक भ्रष्टाचार के सात मामलों में दोषी पाए गए, 12 साल की जेल और करीब 368 करोड़ रु. जुर्माना लगाया गया

2. इजराइली पीएम के बेटे ने मांगी माफी:बेंजामिन नेतन्याहू के बेटे येर ने हिंदुओं से माफी मांगी, सोशल मीडिया पर मां दुर्गा की फोटो से जुड़ा मीम शेयर किया था



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यह फोटो इस साल जुलाई की है। इसमें नवाज शरीफ लंदन के एक रेस्त्रां में पोतियों के साथ चाय पीते नजर आ रहे हैं। यह फोटो सामने आने के बाद नवाज को पाकिस्तान बुलाने की मांग तेज हो गई थी। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2RbTd7t

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे