चीन और रूस के साथ आया पाकिस्तान; भारत, अमेरिका और सऊदी अरब का नया गठबंधन तैयार : रिपोर्ट

पाकिस्तान और अमेरिका के रिश्तों में दूरियां बढ़ती जा रही हैं। दोनों देशों के संबंध इतने खराब कभी नहीं रहे। यही वजह है कि पाकिस्तान अब हर तरह की मदद के लिए चीन पर निर्भर हो गया है। एक डिफेंस एक्सपर्ट के मुताबिक, भारत, अमेरिका और सऊदी अरब एक अलायंस के तौर पर साथ आ चुके हैं। जबकि, चीन और रूस के अलावा ईरान भी पाकिस्तान के साथ नजर आता है।

पाकिस्तान अब अमेरिका से बहुत दूर
डिफेंस एनालिस्ट और साउथ एशियन पॉलिटिक्स की एक्सपर्ट आयशा सिद्दीकी ने न्यूज एजेंसी एएनआई को एक इंटरव्यू दिया है। आयशा के मुताबिक, पाकिस्तान और अमेरिका के रिश्तों में नाटकीय बदलाव आया है। ये बेहद खराब हो चुके हैं और इसे महसूस भी किया जा सकता है। चीन अब पाकिस्तान को हर तरह की मदद दे रहा है। आयशा ने कहा- इसमें कोई शक नहीं कि पाकिस्तान अब चीन के पाले में जा चुका है। वहां उसे रूस और शायद ईरान का भी साथ मिले।

पाकिस्तान को अब आर्थिक मदद नहीं
आयशा कहती हैं- पाकिस्तान भले ही यूएस-तालिबान के बीच बातचीत में मदद का दिखावा कर रहा हो, लेकिन इससे अमेरिका के रुख में बदलाव नहीं आया। यह साफ हो चुका है कि अमेरिका अब पाकिस्तान को आर्थिक मदद नहीं देगा। दुनिया के सामने यह सच्चाई बहुत पहले आ चुकी है कि तालिबान और ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान से मदद मिली। दरअसल, अमेरिका यह जानता है कि पाकिस्तान आतंकवाद का खात्मा करना ही नहीं चाहता।

इमरान की चीन पर नजर
आयशा कहती हैं- पाकिस्तान अब सिर्फ चीन की तरफ देख रहा है। वो अकेला ऐसा देश है जो उसकी मदद कर रहा है। कोरोना दौर के बाद तो इमरान सरकार पूरी तरह चीन पर निर्भर हो जाएगी। दुनिया तेजी से बदल रही है। भारत, अमेरिका और सऊदी अरब अब साथ आ चुके हैं। हो सकता है आने वाले वक्त में चीन और ईरान ज्यादा करीब आएं। पाकिस्तान भी इसमें शामिल होगा। वहां अब सलाह देने वाले लोग भी चुप हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो अक्टूबर 2019 की है। तब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बीजिंग में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाकात की थी। डिफेंस एनालिस्ट आयशा सिद्दीकी के मुताबिक, पाकिस्तान अब हर तरह की मदद के लिए चीन पर निर्भर हो चुका है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/335ylnX

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे