अमेरिका के विदेश मंत्री पोम्पियो दोहा पहुंचे, विशेष दूत खलीलजाद ने कहा- दोनों पक्षों के लिए परीक्षा का समय

अफगान सरकार और तालिबान के बीच सालों से जारी संघर्ष को खत्म करने के लिए कतर की राजधानी दोहा में शनिवार से शांति वार्ता शुरू हो रही है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक इस वार्ता में भारत भी शामिल हो सकता है। वार्ता के दौरान करीब 30 देशों के प्रतिनिधियों को हिस्सा लेना है। शांति वार्ता में हिस्सा लेने के लिए अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो दोहा पहुंच चुके हैं।

खलीलजाद ने कहा- दोनों पक्षों की परीक्षा
अफगानिस्तान के लिए अमेरिका के विशेष दूत और इस वार्ता को कराने वाले जालमे खलीलजाद ने कहा है कि यह वार्ता अफगान सरकार और तालिबान के लिए एक परीक्षा की तरह है। उन्होंने उम्मीद जताई कि बातचीत से दशकों से जारी युद्ध को खत्म किया जा सकेगा और अमेरिकी सैनिकों की वापसी शुरू हो सकेगी। साथ ही दोनों पक्षों में एक पॉलिटिकल रोडमैप को लेकर सहमति बन सकेगी। उन्होंने कहा कि अमेरिका दोनों पक्षों के साथ बातचीत के जरिए जुड़ा रहेगा और हालातों पर नजर रखेगा।

अमेरिका और तालिबान में 29 फरवरी को हुआ था समझौता
अफगानिस्तान में शांति के लिए अमेरिका और तालिबान के बीच इसी साल 29 फरवरी को एक समझौते पर साइन हुए थे। इसके तहत तालिबान को हिंसा में कमी लानी थी और अमेरिका को अफगानिस्तान से सैनिकों की कई चरणों में वापसी। समझौते के मुताबिक तालिबान को अल-कायदा और दूसरे आतंकी समूहों का साथ छोड़ना होगा। साथ ही अफगान सराकार से जुड़े लोगों पर आतंकी हमले भी रोकने होंगे।

5000 तालिबानी आतंकियों को छोड़ने के बाद हो रही वार्ता
शांति वार्ता शुरू करने के लिए अफगान सरकार ने इस साल तालिबान के 5000 आतंकियों को छोड़ा है। इसमें 400 वे हार्डकोर आतंकी भी शामिल हैं, जिन्होंने कई सैनिकों और नागरिकों की हत्या की थी। अशरफ गनी सरकार ने पिछले हफ्ते 3200 कम्युनिटी लीडर और पॉलिटिशियन की बैठक बुलाई थी। सभी के सुझाव पर कैदियों की रिहाई पर फैसला लिया गया।

वार्ता सफल हुई तो ट्रम्प को मिलेगा फायदा
अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी डोनाल्ड ट्रम्प का चुनावी वादा रहा है। यह शांति वार्ता अमेरिका के दबाव में ही इतनी तेजी से बढ़ी है। अगर बातचीत सफल रहती है तो चुनाव से ठीक पहले ट्रम्प को फायदा मिलेगा। रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने कहा था कि अफगानिस्तान में नवंबर तक 5 हजार से भी कम अमेरिकी सैनिक रह जाएंगे।

ये खबरें भी पढ़ सकते हैं...

1. पलट गया आतंकी संगठन:तालिबान ने कहा- अफगान सरकार को नहीं मानते; शांति वार्ता तभी, जब मुल्क में इस्लामिक सरकार पर चर्चा हो

2. शांति के लिए उठाया कदम:अफगान सरकार बड़ी वारदातों में शामिल रहे तालिबान के 400 आतंकी छोड़ेगी, तीन हजार कम्युनिटी लीडर्स और पॉलिटिशियन की बैठक के बाद फैसला



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो जुलाई 2019 में कतर में हुई शांति वार्ता में शामिल तालिबान के प्रतिनिधियों की है। इसी मीटिंग में तय हुआ था कि तालिबान और अफगान भरोसा बढ़ाने के लिए कुछ कदम उठाएंगे। - फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3hqasfX

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान