दुनियाभर में इस साल सितंबर सबसे गर्म महीना रहा, पिछले साल के मुकाबले 0.05° सेल्सियस तापमान ज्यादा था

क्लाइमेट चेंज सर्विस कॉपरनिकस के मुताबिक, इस साल सितंबर महीना दुनिया में अब तक का सबसे गर्म महीना रहा। यह पिछले साल के सितंबर की तुलना में 0.05 सेल्सियस ज्यादा गर्म था। यूरोपियन यूनियन का अर्थ ऑब्जर्वेशन प्रोग्राम कॉपरनिकस ने कहा कि साइबेरियन आर्कटिक में भी तापमान औसत से ऊपर बनी हुई है। आर्कटिक सागर पर बर्फ का आवरण अपने दूसरे न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया है। इसमें 40% तक की कमी आई है।

कहा जा रहा है कि यह साल यूरोप के लिए भी रिकॉर्ड सबसे गर्म साल है, भले ही तापमान अभी से कुछ ठंडा हो। फ्रांस में भी 15 सितंबर के बाद रिकॉर्ड तोड़ गर्मी पड़ी। ब्लैक सी के पास बेमौसम गर्म वेदर देखा गया। पश्चिम एशिया में तुर्की, इजराइल और जॉर्डन में भी रिकॉर्ड तापमान दर्ज किया गया।

बढ़ते तापमान की चलते ही जंगलों में आग लगी

दुनियाभर में बढ़ते तापमान के चलते ही कैलिफोर्निया और ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में भीषण आग लगी। वहीं, इस साल अगस्त में दुनिया की सबसे गर्म जगह डेथ वैली में रिकॉर्ड 54.4° सेल्सियस तापमान रिकॉर्ड किया गया था। इससे पहले 2013 में यहां 54° सेल्सियस तापमान रिकॉर्ड किया गया था।

इस साल कार्बन का उत्सर्जन ज्यादा

कॉपरनिकस के साइंटिस्ट्स के मुताबिक, पिछले महीने आर्कटिक सर्किल में लगी आग से निकलने वाला CO2 2019 की तुलना में एक तिहाई से ज्यादा था। 1 जनवरी से 31 अगस्त के बीच 244 मेगाटन कार्बन निकला, जबकि 2019 में पूरे साल भर में कुल 181 मेगाटन कार्बन का ही उत्सर्जन हुआ था।

जलवायु और मौसम बदलते रहते हैं

कॉपरनिकस क्लाइमेट चेंज सर्विस की डिप्टी डायरेक्टर सामंथा बर्गेस ने बीबीसी को बताया- इनमें से कुछ घटनाएं असाधारण हैं। हालांकि हमें इस बात की झूठी उम्मीद नहीं करनी चाहिए कि साल दर साल तापमान बढ़ता जाएगा। जलवायु और मौसम बदलते रहते हैं। लेकिन इस तरह की घटनाओं से जलवायु पर आगे प्रभाव पड़ेगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
साइबेरियन आर्कटिक में भी तापमान औसत से ऊपर बनी हुई है। आर्कटिक सागर पर बर्फ का आवरण अपने दूसरे न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया है। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3iEMZZ5

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस