नार्थरोप ग्रुमैन के स्पेसशिप की ग्राउंड सपोर्ट इक्विपमेंट में तकनीकी खराबी आई, लॉन्चिंग 2 मिनट 40 सेकंड पहले रोकी गई

नासा ने भारतीय मूल की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला के नाम वाले सिग्नस स्पेसशिप की लॉन्चिंग शुक्रवार को दूसरी बार टाल दी। अमेरिकन एयरोस्पेस कंपनी नार्थरोप ग्रुमैन के इस कार्गो स्पेसशिप को शुक्रवार को लॉन्च किया जाना था। हालांकि, लॉन्चिंग से सिर्फ 2 मिनट 40 सेकंड पहले इसके ग्राउंड सपोर्ट इक्विपमेंट में खराबी आने के वजह से ऐसा नहीं हो सका। नासा ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। इससे पहले 29 सितंबर को खराब मौसम की वजह से इसे लॉन्च नहीं किया जा सका था।

नार्थरोप ग्रुमैन ने सितंबर में अपने इस स्पेसशिप का नाम कल्पना चावला के नाम पर रखने का ऐलान किया था। कंपनी ने कहा था- कल्पना चावला के नाम पर अपने अगले एनजी-14 सिग्नस स्पेसक्राफ्ट का नाम रखते हुए हमें गर्व हो रहा है।

वर्जीनिया स्थित स्पेस सेंटर से लॉन्च होगा स्पेसशिप
लॉन्चिंग वर्जीनिया स्थित नासा के स्पेस सेंटर से होगी। इस मिशन का नाम एनजी-14 रखा गया है। इसे कंपनी के एंटारेस रॉकेट की मदद से लॉन्च किया जाएगा। यह दो दिन के बाद इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (आईएसएस) पहुंच जाएगा।

एस एस कल्पना चावला एक री-सप्‍लाई शिप है

नार्थरोप ग्रुमैन कंपनी की परंपरा है हर सिग्‍नस स्‍पेसक्राफ्ट का नाम एक ऐसे शख्स के नाम पर रखा जाता है जिसने ह्यूमन स्‍पेस फ्लाइट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हो। कल्पना चावला को इस सम्मान के लिए इसलिए चुना गया क्‍योंकि उन्‍होंने भारतीय मूल की पहली अंतरिक्ष यात्री के रूप में इतिहास रचा था। एस एस कल्पना चावला एक री-सप्‍लाई शिप है। इसकी मदद से आईएसएस पर 3629 किग्रा सामान पहुंचाया जाएगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
क्ल्पना चावला के नाम वाले स्पेसशिप की लॉन्चिंग वर्जीनिया स्थित नासा के स्पेस सेंटर से होगी। फोटो नासा के लॉन्च पैड पर स्पेसशिप को लॉन्चिंग के लिए रखे जाने के बाद की है।- फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3ndOxfV

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस