अजरबैजान ने संघर्ष विराम लागू करने के चार मिनट के भीतर ही तोप के गोले और रॉकेट दागे, अब तक 600 से ज्यादा मौतें

आर्मेनिया और अजरबैजान ने रविवार को विवादित इलाके नागोर्नो काराबाख में एक-दूसरे पर संघर्ष विराम के उल्लंघन का आरोप लगाया। शनिवार रात 12 बजे से दोनों देश नागोर्नो-काराबाख क्षेत्र में संघर्ष विराम लागू करने के लिए तैयार हुए थे। बीबीसी के मुताबिक, आर्मेनियाई रक्षा मंत्रालय ने दावा किया कि अजरबैजान ने शनिवार रात 12 बजे संघर्ष विराम लागू होने के चार मिनट बाद ही तोप के गोले और रॉकेट दागे।

मंत्रालय की प्रवक्ता शुशन स्टीफन ने ट्वीट किया- हमारे दुश्मन ने उत्तर की ओर 12.04 से 2.45 बजे (स्थानीय समय) तक तोप के गोले दागे और दक्षिणी दिशा में 2.20-2.45 बजे तक रॉकेट दागे। अजरबैजान ने रविवार सुबह नागोर्नो-करबाख के दक्षिण में हमला किया। दोनों ओर के लोग मारे गए हैं।

शनिवार को अजरबैजान के राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने आर्मेनिया पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उन्होंने अजरबैजान में दो हजार से ज्यादा घरों को नुकसान पहुंचाया है।

नागोर्नो काराबाख को लेकर जंग जारी

पिछले महीने से ही विवादित क्षेत्र को लेकर दोनों देशों में लड़ाई जारी है। कई देश नागोर्नो काराबाख को अजरबैजान का हिस्सा मानते हैं, जबकि इस पर आर्मेनियाई लोगों का कब्जा है। इस जंग में दोनों ओर से अब तक छह सौ से ज्यादा जानें जा चुकी हैं। आइए देखते हैं, जंग से जुड़ी कुछ दर्दनाक तस्वीरें...

यह फोटो अजरबैजान के गांजा शहर की है। आर्मेनिया के रॉकेट हमले में इलाके में कई घर पूरी तरह ध्वस्त नजर आ रहे हैं। इस बीच रेस्क्यू टीम बचाव अभियान में जुटी है।
इस फोटो में 67 साल की रेजि गुलुयेवा गांजा शहर में हुए रॉकेट हमले में खंडहर बने अपने घर के ऊपर खड़ी नजर आ रही हैं।
गांजा शहर में शनिवार को हुए रॉकेट हमले के बाद मरने वाले बच्चों और लोगों को याद करते हुए टेडी बियर और तस्वीरें रखी गईं।
नागोर्नो काराबाख क्षेत्र में अजरबैजान के हमले में ध्वस्त अपने घर के पास खड़ी महिला। इस हमले में सैकड़ों लोग मारे जा चुके हैं।
इस फोटो में रॉयल साहनजारोवा के रिश्तेदार नजर आ रहे हैं। गांजा शहर में हुए रॉकेट हमले में साहनजारोव की पत्नी जुलेया साहनजारोवा और उनकी बेटी मेदिनी साहनाजोरवा मारे गए थे।
यह फोटो अजरबैजान के गांजा शहर की एमीना अलीयेवा की है, जिनका रॉकेट हमले में घर ध्वस्त हो गया। वे अपने घर के एंट्रेस गेट पर खड़ी होकर रोती नजर आ रही हैं।
अजरबैजान के गांजा शहर में रेस्क्यू में जुटे सुरक्षाबल। अजरबैजान के राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने आर्मेनिया पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उनके हमले में हमारे दो हजार से ज्यादा घरों को नुकसान पहुंचा है।
शनिवार को गांजा शहर में हुए रॉकेट हमले में एक परिवार के पांच सदस्यों की मौत हो गई। दोनों देशों में जारी जंग के बीच एक रॉकेट उनके घर से टकरा गया। उनकी तस्वीरों के साथ फैमिली मेंबर।
गांजा शहर में रेस्क्यू करते सुरक्षाबल। शनिवार रात 12 बजे से आर्मेनिया और अजरबैजान संघर्ष विराम लागू करने के लिए तैयार हुए थे। हालांकि, आर्मेनिया ने दावा किया कि अजरबैजान ने संघर्ष विराम तोड़ते हुए तोप के गोले और रॉकेट दागे।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यह फोटो अजरबैजान के तैमूर जलीगोव की है, जो अपनी 10 महीने की बेटी नारिन के शव को गोद में लिए हुए हैं। नागोर्नो-कराबाख क्षेत्र पर आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच जारी युद्ध के बीच एक रॉकेट उनके घर पर गिरा, जिसमें नारिन और उनकी मां सेविल समेत अन्य रिश्तेदारों की मौत हो गई।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3jiJMPn

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस