दूसरी प्रेसिडेंशियल डिबेट रद्द होने के बाद आज टाउन हॉल करेंगे ट्रम्प और बाइडेन; स‌र्वे में पिछड़ते दिख रहे ट्रम्प कोई नया बहाना बना सकते हैं

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और डेमोक्रेट कैंडिडेट जो बाइडेन गुरुवार की रात अलग-अलग टाउन हॉल कार्यक्रम करेंगे। टेलिकास्ट भी अलग-अलग चैनलों पर होगा। ट्रम्प मियामी में वोटर्स के सवालों का जवाब देंगे। एनबीसी, एमएसएनबीसी और सीएनबीसी चैनल इसे लाइव टेलिकास्ट करेंगे। एक घंटे के इस प्रोग्राम को सेवने गुथायर मॉडरेट करेंगी। दूसरी तरफ, बाइडेन का टाउन हॉल फिलाडेल्फिया के नेशनल कांस्टीट्यूशन सेंटर में 90 मिनट चलेगा। एबीसी चैनल पर इसे जॉर्ज स्टिफनपॉलस मॉडरेट करेंगे।

पहले गुरुवार की रात ट्रम्प और बाइडेन की प्रेसिडेंशियल डिबेट होने वाली थी। कमिशन ऑफ प्रेसिडेंशियल डिबेट (सीपीडी) ने ट्रम्प के संक्रमित होने की वजह से इसे वर्चुअल कराने का ऐलान किया था। हालांकि, ट्रम्प के वर्चुअल डिबेट में शामिल होने से इनकार करने के बाद यह बहस ही रद्द कर दी गई थी।

बाइडेन पर आई रिपोर्ट का जिक्र हो सकता है
ट्रम्प कैंपेन की ओर से मेल-इन-बैलट के कलेक्शन और काउंटिंग सीमित करने के लिए मामला दायर किया गया था। पेनसिल्वेनिया के जज ने बीते हफ्ते इस मुकदमे को खारिज कर दिया। फेसबुक और ट्विटर बुधवार को बाइडेन के बारे में अपुष्ट दावे करने वाली न्यूयॉर्क पोस्ट की रिपोर्ट के खिलाफ नजर आए। दोनों ने इस रिपोर्ट को कम दिखाने या सीधे-सीधे ब्लॉक करने की बात कही। टाउन हॉल प्रोग्राम में यह मुद्दे उठाए जा सकते हैं।

अब भी ट्रम्प के कई टारगेट बाकी हैं
चुनाव में तीन हफ्ते से भी कम वक्त बाकी है। ट्रम्प के अभी भी कई टारगेट बचे रह गए हैं। वे अब यह बताना चाह रहे हैं कि कई चीजें उनके मुताबिक नहीं हुईं। उन्होंने राहत के लिए स्टीम्यूलेशन बिल लाने की कोशिश की। यह भी पास नहीं हो सका। ट्रम्प अपने गुस्से को काबू में रखने पर भी फोकस करेंगे। क्योंकि, इससे अंदाजा लगाया जा सकेगा कि वह अगर हारते हैं तो कैसे रिएक्ट करेंगे।

प्रेसिडेंशियल डिबेट की तरह होगा टाउन हॉल
प्रेसिडेंशियल कैंडिडेट इस बार एक मंच शेयर नहीं करेंगे। हालांकि दोनों का टाउन हॉल प्रोग्राम अलग-अलग नेटवर्क पर एक ही रात एक ही समय में होगा। यह करीब-करीब इसी महीने हुई पहली प्रेसिडेंशियल डिबेट की तर्ज पर होगा। बाइडेन को चुनावी बढ़त मिलती नजर आ रही है। वे बिना किसी बाहरी इवेंट के राष्ट्रपति चुनाव की रेस में आगे निकलने की उम्मीद कर रहे हैं।

क्या ट्रम्प बाइडेन पर नाराजगी जाहिर करेंगे?
ट्रम्प चाहते हैं कि बाकी बचे वक्त में वे जितनी रैलियां कर सकते हैं, उतनी जरूर करें। वे शोरगुल में खुद को डुबाना चाह रहे हैं। देखना होगा कि क्या ट्रम्प अपनी नाराजगी और तीखे हमलों से बाइडेन को फीका साबित करने की कोशिश करते हैं या नहीं। ट्रम्प पहली डिबेट में ऐसा कर चुके हैं। हालांकि, ऐसे बर्ताव के बाद ट्रम्प के कुछ समर्थक भी उनसे नाराज हो गए थे।

अपनी नाकामी से ध्यान भटकाना चाहते हैं ट्रम्प
टाउन हॉल शुरू होने से एक दिन पहले रिपब्लिकन बाइडेन और उनके बेटे हंटर पर आई एक रिपोर्ट को लेकर चर्चा कर रहे हैं। यह रिपोर्ट ट्रम्प के रिपब्लिकन साथियों की शह पर सामने आई है। इसमें इस बात के कोई सबूत नहीं है कि पूर्व उप राष्ट्रपति ने कुछ गलत किया है। ट्रम्प इसे मुद्दा बना रहे हैं। वे ऐसा करके कोरोना से निपटने में अपनी नाकामी से लोगों का ध्यान भटकाना चाहते हैं।
रिपोर्ट को लेकर कई तरह के सवाल किए जा रहे हैं। राष्ट्रपति के खुद का इतिहास अपने ऑफिस का प्रभाव दिखाने का रहा है। इसके बावजूद ट्रम्प एक तथ्यहीन रिपोर्ट में राजनीतिक मौका खोज रहे हैं। उन्होंने बुधवार को आयोवा की रैली में भी इसका जिक्र किया।

सवालों को नजरअंदाज करने पर ट्रम्प को नुकसान
अगर ट्रम्प टाउन हॉल में वोटर्स के सवालों को नजरअंदाज करते हैं, बाइडेन पर कीचड़ उछालने की कोशिश करते हैं, तो इसका नुकसान उन्हें ही होगा। वे अन-डिसाइडेड वोटर्स (किसी पार्टी का समर्थन नहीं करने वाले वोटर्स) को नाराज कर सकते हैं। इन वोटर्स के लिए संकट की इस घड़ी में हंटर बाइडेन फिक्र की वजह नहीं हैं। ऐसा करने पर सवाल उठेगा कि क्या ट्रम्प अपने चुनावी नतीजों को सुधारने के लिए गलत या संदेह वाली जानकारी दे रहे हैं। चार साल पहले ट्रम्प ने इसके खिलाफ आवाज उठाई थी। उन्होंने सार्वजनिक तौर पर रूस से हिलेरी क्लिंटन के सर्वर से ईमेल खोजने की चुनौती दी थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प बुधवार को डेस मोइंस में एक रैली को संबोधित करते हुए।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3j2kLHX

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस