प्रेसिडेंट साई इंग-वेन ने कहा- चना मसाला और नान पसंद, हमारा देश भाग्यशाली है कि यहां भारतीय खाना मिलता है

ताइवान की राष्ट्रपति साई इंग-वेन को भारतीय भोजन खाना पसंद है। उन्होंने गुरुवार को खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट किया- ताइवान लकी है कि यहां पर कई भारतीय रेस्टोरेंट है। ताइवान के लोग उन्हें पसंद करते हैं। मैं हमेशा चना मसाला और नान खाना पसंद करती हूं। वहीं चाय मुझे भारत की मेरी यात्रा की याद दिलाता है। भारत एक वाइब्रेंट और कलरफुल देश है। उन्होंने ट्विटर यूजर्स से अपना पसंदीदा भारतीय भोजन बताने के लिए भी कहा।

अपनी ट्वीट के साथ वेन ने एक भारतीय थाली की तस्वीर भी पोस्ट की। इसमें चावल, नान, सलाद और कुछ दूसरे भारतीय व्यंजन नजर आ रहे थे। पास में ही एक स्टील की प्याली में चाय भी रखी थी। वेन पहले भी कुछ मौकों पर भारत की तारीफ कर चुकी हैं।

तीन दिन पहले भारतीय फॉलोवर्स की तारीफ की थी
वेन ने 13 अक्टूबर को अपने भारतीय फॉलोवर्स की तारीफ की थी। उन्होंने ट्वीट किया था- मेरे सभी भारतीय दोस्तों को नमस्ते। मुझे ट्विटर पर फॉलो करने के लिए आप सभी का शुक्रिया। आप की शुभकामनाएं मुझे भारत में बिताए गए समय की याद दिलाती है। आपके यहां की ऐतिहासिक इमारतें, आपकी संस्कृति औरअच्छे लोग कभी भुलाए नहीं जा सकते। मैं वहां बिताए गए वक्त को हमेशा मिस करती हूं।

##

चीन के खिलाफ ताइवान के साथ है भारत

चीन बीते कुछ समय से ताइवान को परेशान करने की कोशिश कर रहा है। चीनी फाइटर जेट और पोत ताइवान की सीमा में घुस आते हैं। भारत ने ताइवान का समर्थन किया है। भारत के साथ ही क्वाड देशों के दूसरे तीन सदस्य, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया ने भी चीन की इन हरकतों पर नाराजगी जाहिर की है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ताइवान की राष्ट्रपति साई इंग-वेन कई मौकों पर भारत की तारीफ कर चुकी हैं। फोटो पांच महीने पहले की है। उस समय उन्होंने ताइपे में राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3k3f2ml

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस