अफगानिस्तान में ऑस्ट्रेलियाई सैनिकों ने प्रैक्टिस के लिए 39 बेगुनाह लोगों को मारा, ऑस्ट्रेलिया के डिफेंस चीफ ने ही खुलासा किया

ऑस्ट्रेलिया के डिफेंस फोर्स चीफ जनरल एंगस कैम्पबेल के एक खुलासे ने अफगानिस्तान में तैनात विदेशी सैनिकों की दरिंदगी उजागर कर दी। एंगस ने एक वॉर क्राइम रिपोर्ट जारी की है। इसमें माना गया है कि अफगानिस्तान में तैनात उनके सैनिकों ने करीब 39 बेकसूर नागरिकों का कत्ल किया। हैरान करने वाली बात यह है कि ज्यादातर सैनिक वे हैं जिन्हें पहली बार जंग के मैदान में तैनात किया गया था। इन सैनिकों ने सिर्फ प्रैक्टिस के नाम पर बेगुनाह लोगों को गोलियों से छलनी कर दिया। अफगानिस्तान में तैनात विदेशी फौजियों पर पहले भी इस तरह के आरोप लगे हैं।

‘ब्लडिंग’ का खेल
NBC ने कैम्पबेल के हवाले से एक रिपोर्ट पब्लिश की है। इसमें कैम्पबेल ने कहा- यह शर्मनाक है। कुल 39 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है। इनमें कुछ कैदी, किसान और आम नागरिक थे। सभी आरोपी सैनिकों की यह जंग के मैदान में पहली तैनाती थी। ये फौजी प्रैक्टिस के लिए कत्ल के आरोपी बनाए गए हैं। ऑस्ट्रेलिया में तैनाती के बाद जब कोई सैनिक पहली बार किसी अपराधी को मुठभेड़ में मार गिराता है तो इसे ‘ब्लडिंग’कहा जाता है।

फिर फर्जी दावा
कैम्पबेल ने ऑस्ट्रेलिया के फौजियों की शर्मनाक हरकत को अमानवीय और दरिंदगी करार देते हुए इससे जुड़ा एक राज और खोला। कहा- हमारे फौजियों ने कत्ल करने के बाद मारे गए लोगों के पास हथियार रख दिए। रेडियो सेट के जरिए संदेश भेजा कि हमने एनकाउंटर में दुश्मनों को मार गिराया है।

2009 से शुरू हुई दरिंदगी
कैम्पबेल ने बताया कि हत्याओं का यह सिलसिला 2009 में शुरू हुआ। लेकिन, ज्यादातर कत्ल 2012 और 2013 के बीच किए गए। ये फौजी खुद को जरूरत से ज्यादा बहादुर समझते हैं।

आगे क्या होगा?
ऑस्ट्रेलियाई डिफेंस डिपार्टमेंट ने चार साल तक इन आरोपों की जांच की। इसके लिए तीन लोगों की टीम बनाई गई थी। इसमें एक जज भी शामिल थे। इस दौरान 400 चश्मदीदों के बयान दर्ज किए गए। 19 सैनिकों को आरोपी बनाया गया है। इन सभी पर हत्या का आरोप दर्ज किया गया है और मुकदमा इसी से संबंधित धाराओं में चलेगा।

अफगानिस्तान से माफी मांगते हैं..
कैम्पबेल ने कहा- मुझे अहसास है कि हमारे सैनिकों ने इंसानियत का कत्ल किया है। हम अफगानिस्तान के नागरिकों से तहे दिल से माफी मांगते हैं। मैंने अफगानिस्तान के सुरक्षा अधिकारियों से बातचीत की और उनसे भी माफी मांगी। हमारे सैनिकों ने लोगों का भरोसा तोड़ा है।

कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया कि कत्ल की कुल 23 घटनाएं हुईं। इनमें 39 लोग मारे गए। हत्या का आरोप कुल 25 सैनिकों पर लगा है। ऑस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरिसन ने घटना की अलग से जांच कराने के लिए एक स्पेशल कमेटी बनाई है। आरोपी सैनिकों और उनके अफसरों के मैडल और बैज छीन लिए गए हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो 2013 की है। तब ऑस्ट्रेलियाई सैनिकों की तैनाती अफगानिस्तान के उरुजन जिले में थी। ऑस्ट्रेलियाई सैनिकों ने सबसे ज्यादा हत्यायें 2012 से 2013 के बीच ही कीं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2KkuOw9

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे