प्रियंका राधाकृष्णन न्यूजीलैंड की पहली भारतीय मूल की मंत्री बनीं, कहा- आज का दिन खास

दूसरी बार न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री बनने वाली जेसिंडा आर्डर्न ने सोमवार को अपनी कैबिनेट में 5 नए चेहरे शामिल किए हैं। जेसिंडा ने भारत में जन्मीं प्रियंका राधाकृष्णन (41) को भी अपनी कैबिनेट में शामिल किया है। जेसिंडा ने कहा कि मैं कुछ नया टैलेंट कैबिनेट में शामिल करते हुए उत्साहित हूं। ये उस न्यूजीलैंड की तस्वीर पेश करेंगे, जिसने हमें 17 अक्टूबर को चुना।

जेसिंडा की लेबर पार्टी ने दो हफ्ते पहले चुनावों में जीत दर्ज की थी। न्यूजीलैंड के इतिहास में पहली बार किसी पार्टी को इतनी बड़ी जीत मिली है।

प्रियंका ने घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं की आवाज उठाई
न्यूजीलैंड सरकार में शामिल किए जाने पर प्रियंका ने सोशल मीडिया पर लिखा- आज का दिन खास है। मुझे बधाई देने वालों का शुक्रिया। मैं अपनी नई जिम्मेदारी को लेकर उम्मीदों से भरी हुई हूं। प्रियंका न्यूजीलैंड आने से पहले सिंगापुर के स्कूल में पढ़ीं। वो मूल रूप से केरल की निवासी हैं।

प्रियंका घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं और प्रवासी मजदूरों के लिए आवाज उठाती रही हैं। लेबर पार्टी की ओर से वो पहली बार 2017 में सांसद बनीं और उन्हें 2019 में मिनिस्ट्री ऑफ एथनिक कम्युनिटीज का पार्लियामेंट्री प्राइवेट सेक्रेटरी बनाया गया था।

इसी प्रोफाइल पर उन्होंने जो काम किया, उसके आधार पर ही उन्हें डाइवर्सिटी, इन्क्लूजन एंड एथनिक कम्युनिटीज डिपार्टमेंट का मिनिस्टर बनाया गया है। प्रियंका अभी अपने पति के साथ ऑकलैंड में रहती हैं।

नई कैबिनेट में टैलेंट और ये विविधता से भरी- जेसिंडा
जेसिंडा आर्डर्न ने मंत्रिमंडल के बारे में कहा- इस टीम के साथ मैं लोगों की ताकत दिखाऊंगी। ये नई कैबिनेट न केवल योग्यता के आधार पर तैयार की गई है, बल्कि ये बहुत वि‌विधताभरी भी है। अभी हमारा फोकस इकोनॉमिक रिकवरी पर है और अगर मंत्री परफॉर्म नहीं करेंगे तो उन्हें दरवाजा दिखा दिया जाएगा। नए मंत्रियों की शपथ शुक्रवार को होगी और इसी के बाद पहली कैबिनेट की मीटिंग होगी।

न्यूजीलैंड में ननिया महुता विदेश मंत्री बनीं। वे पहली स्वदेशी महिला जिन्हें ये पद मिला।

न्यूजीलैंड में सोमवार को पहली बार किसी स्वदेशी महिला को विदेश मंत्री बनाया गया है। प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डर्न ने ननिया महुता को विदेश मंत्री का पद दिया। महुता 4 साल पहले देश की पहली महिला सांसद थीं, जिन्होंने चेहरे पर ट्रेडीशनल टैटू बनवाया था। वह माओरी जनजाति से आती हैं। अभी तक विदेश मंत्री का पदभार विंस्टन पीटर्स संभाल रहे थे।

नेशनल ब्रॉडकास्टर रेडियो न्यूजीलैंड से बातचीत में महुता ने कहा, "मैं दुनिया के अन्य देशों से बातचीत का नेतृत्व करने के लिए तैयार हूं। मेरे लिए और मेरे देश के लिए अच्छा करने की कोशिश करूंगी।''



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
प्रियंका राधाकृष्णन न्यूजीलैंड आने से पहले सिंगापुर के स्कूल में पढ़ीं। वो मूल रूप से केरल की निवासी हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3ehMJyJ

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे