टीवी इंटरव्यू में ट्रम्प बोले- बाइडेन को राष्ट्रपति नहीं मानूंगा, चुनाव में उनका षड्यंत्र नहीं भूल सकता

अमेरिका में डोनाल्ड ट्रम्प चुनाव नतीजों को लेकर अपनी जिद पर अड़े हुए हैं। री-इलेक्शन की उनकी याचिका खारिज होने के बाद पहले टीवी इंटरव्यू में ट्रम्प ने कहा- मैं जो बाइडेन को कभी राष्ट्रपति के तौर पर स्वीकार नहीं करूंगा। मैं बड़े पैमाने पर वोटिंग फ्रॉड के उनके षड्यंत्र को नहीं भूल सकता।

फॉक्स न्यूज को रविवार को दिए इंटरव्यू में ट्रम्प ने साफ कहा- आप मेरी राय नहीं बदल सकते। छह महीने में मेरा नजरिया नहीं बदला है। इस चुनाव में धांधली हुई है। यह चुनाव पूरी तरह फर्जी था। अगर ऐसा नहीं होता, तो हम आराम से चुनाव जीत जाते।

सबूत नहीं, पर जीत का दावा बरकरार
3 नवंबर के बाद अपने पहले टीवी इंटरव्यू में ट्रम्प लगातार चुनाव में फर्जीवाड़े की बात कहते रहे। हालांकि वे इसके लिए कोई सबूत नहीं दे सके। उनकी लीगल टीम भी अब तक चुनाव में धांधली को लेकर कोई ठोस सबूत नहीं जुटा सकी है।

हमें सबूत पेश नहीं करने दिए जा रहे
देशभर की अदालतों में ट्रम्प की तरफ से दाखिल केस एक के बाद खारिज हो रहे हैं। पेन्सिलवेनिया के सुप्रीम कोर्ट ने भी शनिवार को ट्रम्प के समर्थकों की तरफ से दायर लॉ सूट खारिज कर दिया। इसमें पेन्सिवेनिया में बाइडेन की जीत को चुनौती दी गई थी। इस पर ट्रम्प ने कहा- हम सबूत पेश करने की कोशिश करते हैं, लेकिन जज हमें इसकी इजाजत नहीं देते। हम फिर भी कोशिश कर रहे हैं। हमारे पास ढेर सारे सबूत हैं।

सुप्रीम कोर्ट हमारी बात नहीं सुन रहा
अमेरिका में डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस और फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (FBI) का प्रमुख राष्ट्रपति ही होता है। इसके बावजूद ट्रम्प ने दोनों विभागों पर सहयोग न करने का आरोप लगाया। ट्रम्प ने कहा- वे सीन से ही गायब हैं। सुप्रीम कोर्ट को हमारी बात सुननी चाहिए थी। अगर सुप्रीम कोर्ट ऐसे मामले में दखल नहीं दे सकता, तो उसके होने का मतलब क्या है?



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
चुनाव में धांधली के दावे कोर्ट में खारिज होने पर ट्रम्प बोले- हम सबूत पेश करने की कोशिश करते हैं, लेकिन जज हमें इसकी इजाजत नहीं देते।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3o8bv85

Comments

Popular posts from this blog

चीन ने कहा- हमारा समुद्री अधिकार नियम के मुताबिक, जवाब में ऑस्ट्रेलिया बोला- उम्मीद है आप 2016 का फैसला मानेंगे

अफगानिस्तान सीमा को खोलने की मांग कर रहे थे प्रदर्शनकारी, पुलिस ने फायरिंग की; 3 की मौत, 30 घायल

रूलिंग पार्टी की बैठक में नहीं पहुंचे ओली, भारत से बिगड़ते रिश्ते के बीच इस्तीफे से बचने की कोशिश