वर्चुअल समिट में आज आमने-सामने होंगे मोदी और जिनपिंग, सीमा विवाद के बाद दूसरी बार एक मंच पर दोनों नेता

आज 12वीं ब्रिक्स समिट का आयोजन रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन करने जा रहे हैं। इस वर्चुअल समिट में नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी हिस्सा लेंगे। समिट के दौरान ब्रिक्स देशों के भी आपसी सहयोग के मुद्दों पर चर्चा होगी। इनमें कोविड-19 से निपटने के उपाय, काउंटर टेरेरिज्म, ट्रेड और हेल्थ शामिल हैं।

द्विपक्षीय विवादित मुद्दे नहीं उठाए जा सकेंगे
समिट के पहले रूस ने साफ कर दिया है कि इस मंच का इस्तेमाल द्विपक्षीय विवादित उठाने के लिए नहीं किया जा सकेगा। भारत और चीन दोनों को ब्रिक्स से फायदा हुआ है। माना जा रहा है कि मोदी आतंकवाद के मुद्दे पर फोकस करेंगे। इस दौरान प्रधानमंत्री टेरर फाइनेंसिंग और ड्रग ट्रैफिकिंग का जिक्र भी कर सकते हैं। मोदी ने ब्राजील में हुई 11वीं समिट में साफ तौर पर कहा था विकास की राह में सबसे बड़ा रोढ़ा आतंकवाद है।

दूसरी बार आमने-सामने
भारत और चीन के बीच लद्दाख में मई से जारी तनाव के बाद यह सिर्फ दूसरा मौका होगा जब मोदी और जिनपिंग आमने-सामने होंगे। पिछले हफ्ते एससीओ मीटिंग में जिनपिंग के अलावा पाकिस्तान के पीएम इमरान खान भी शामिल हुए थे। तब मोदी ने एक दूसरे की संप्रभुता और अखंडता के सम्मान का संदेश दिया था।
13वीं ब्रिक्स समिट का आयोजन भारत करेगा। ब्रिक्स के बाद मोदी और जिनपिंग की अगली मुलाकात जी-20 समिट में हो सकती है। यह समिट अगले हफ्ते होगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग आज ब्रिक्स समिट में आमने-सामने होंगे। यह वर्चुअल समिट होगी। इसमें द्विपक्षीय मुद्दे नहीं उठाए जा सकेंगे। (फाइल)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/35Cppcd

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे