एस्ट्राजेनिका के CEO ने कहा- इफिशिएंसी चेक करने के लिए वैक्सीन का फिर ट्रायल कर सकते हैं

एस्ट्राजेनिका कंपनी अपने वैक्सीन का फिर ग्लोबल ट्रायल कर सकती है। इसके CEO पास्कल सोरियोत ने यह संकेत दिए हैं। कंपनी के ट्रायल पर कुछ सवाल उठ रहे हैं और माना जा रहा है कि इसी के मद्देनजर वैक्सीन के एडिशनल ट्रायल करने पर विचार कर रही है ताकि शंकाओं का समाधान किया जा सके।

उधर, ब्रिटेन सरकार ने अपने हेल्थ रेगुलेटर से एस्ट्राजेनिका वैक्सीन को अप्रूवल देने के लिए इसकी स्टडी करने को कहा है।

एडिशनल स्टडी पर विचार
कंपनी ने पिछले हफ्ते अपने वैक्सीन का डाटा रिलीज किया था। इस पर कुछ सवाल उठे थे। अमेरिका में भी एस्ट्राजेनिका के ट्रायल चल रहे हैं। कंपनी ने ट्रायल में मामूली भूल की बात पहले ही स्वीकार कर ली थी। अब कहा जा रहा है कि इसका हल्का डोज फुल डोज के मुकाबले ज्यादा बेहतर नतीजे दे रहा है। इन तमाम बातों के सामने आने के बाद कंपनी के CEO पास्कल सोरियोत ने एक इंटरव्यू में कहा- हमने पाया है कि वैक्सीन की इफिशिएंसी काफी बेहतर है। लेकिन, हम इसे साबित करना चाहते हैं और इसीलिए एडिशनल इंटरनेशनल स्टडी पर विचार कर रहे हैं। इन ट्रायल्स को तेजी से किया जाएगा, लेकिन पेशेंट्स की संख्या पहले से कम होगी।

अप्रूवल प्रॉसेस पर फर्क नहीं पड़ेगा
एक सवाल के जवाब में CEO ने कहा- हमें ये भरोसा है कि नए प्रॉसेस के बावजूद इसके ब्रिटेन और यूरोपीय यूनियन में चल रहे अप्रूवल प्रॉसेस पर फर्क नहीं पड़ेगा। हालांकि, अमेरिका में एफडीए इसे जल्द मंजूरी नहीं देगा। इसकी वजह यह है कि एफडीए किसी दूसरे देश में चल रहे अप्रूवल को अपने यहां मान्यता नहीं देता। खास तौर पर उन हालात में जब वैक्सीन के रिजल्ट्स पर सवाल उठे हों। सोरियोत ने कहा- उम्मीद है कि साल के अंत तक बाकी देशों में मंजूरी मिल जाएगी।

नया सवाल
एस्ट्राजेनिका और इसके ब्रिटिश पार्टनर ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने सोमवार को कहा था कि आधे डोज की इफिशिएंसी 90% जबकि फुल डोज की इफिशिएंसी 62% पाई गई। इस पर अमेरिका के एक रिसर्च इंस्टीट्यूट ने सवाल उठाए थे। हालांकि, एस्ट्राजेनिका और ऑक्सफोर्ड ने इस पर कोई सफाई नहीं दी थी।

ब्रिटेन में अप्रूवल प्रॉसेस शुरू
ब्रिटेन सरकार ने एस्ट्राजेनिका के वैक्सीन को अप्रूवल के लिए अपने रेगुलेटर से प्रॉसेस शुरू करने को कहा है। माना जा रहा है कि यह वैक्सीन साल के आखिर तक ब्रिटेन में उपलब्ध हो सकता है। ब्रिटेन में इस वक्त फाइजर-बायोएनटेक, मॉडर्ना और एस्ट्राजेनिका अप्रूवल पाने की कोशिश कर रहे हैं। एस्ट्राजेनिका के तीसरे फेज की ट्रायल्स पूरे हो चुके हैं। ब्रिटेन सरकार के नियमों के मुताबिक, वैक्सीन को मेडिसिन्स एंड हेल्थ केयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी (MHRA) से मंजूरी मिलना जरूरी है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो पिछले हफ्ते की है। तब लंदन में एस्ट्राजेनिका के डोज वहां के वॉलेंटियर्स को दिए गए थे।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3l5jRLK

Comments

Popular posts from this blog

चीन ने कहा- हमारा समुद्री अधिकार नियम के मुताबिक, जवाब में ऑस्ट्रेलिया बोला- उम्मीद है आप 2016 का फैसला मानेंगे

अफगानिस्तान सीमा को खोलने की मांग कर रहे थे प्रदर्शनकारी, पुलिस ने फायरिंग की; 3 की मौत, 30 घायल

रूलिंग पार्टी की बैठक में नहीं पहुंचे ओली, भारत से बिगड़ते रिश्ते के बीच इस्तीफे से बचने की कोशिश