आतंकियों को कश्मीर भेजने के फिराक में तुर्की, हर आतंकी को देगा करीब 1.5 लाख की फंडिंग

पाकिस्तान का साथी देश तुर्की कश्मीर में आतंक फैलाने की साजिश रच रहा है। तुर्की सीरिया में लड़ रहे अपने कुछ आतंकियों को कश्मीर भेजने की फिराक में है। तुर्की की सरकारी मीडिया एजेंसी ने भी पाकिस्तान और कश्मीर के मामले को लेकर टिप्पणी की है। इसे अजरबैजान और आर्मेनिया के बीच नागर्नो-कराबाख विवाद की तरह बताया है। तुर्की की मदद से दो हफ्ते पहले ही अजरबैजान ने इस इलाके पर कब्जा कर लिया है।

तुर्की की न्यूज एजेंसी एएनएफ न्यूज ने अपनी रिपोर्ट में यह दावा किया है। इसके मुताबिक, सीरिया में तुर्की समर्थित सुलेमान शाह ब्रिगेड नामक आतंकी संगठन काम कर रहा है। यह तथाकथित सीरिया नेशनल आर्मी का हिस्सा भी है। इसकी अगुवाई करने वाले अबु एमशा ने पांच दिन पहले अपने लड़ाकों को जानकारी दी कि तुर्की कश्मीर मामले में पाकिस्तान की मदद करने का मन बना रहा है।

आतंकियों की भर्ती के लिए अभियान चला रहा तुर्की

अबु एमशा के मुताबिक तुर्की के अफसर जल्द ही ऐसे आतंकियों की लिस्ट मांगेंगे जो कश्मीर जाना चाहते हैं। इन सभी को आतंकी संगठन की ओर से 2 हजार अमेरिकी डॉलर (करीब 1.5 लाख रुपए) दिए जाएंगे। स्थानीय सूत्रों के मुताबिक तुर्की कश्मीर में आतंकियों को चुनने के लिए एजाज, जाराब्लस, अल-बाब, अफरीन और इडलिब इलाके में अभियान चला रहा है। इन्हें एक ग्रुप में गुपचुप तरीके से कश्मीर भेजा जाएगा।

तुर्की कश्मीर मामले पर देता रहा है पाकिस्तान का साथ

तुर्की कश्मीर मामले पर लंबे समय से पाकिस्तान का साथ देता रहा है। यूएन ( संयुक्त राष्ट्र) समेत कई दूसरे ग्लोबल प्लेटफॉर्म्स पर कश्मीर का मु्द्दा उठाने में पाकिस्तान की मदद की है। पिछले साल यूएन के जनरल असेम्बली में तुर्की ने कश्मीर का मुद्दा उठाया था। भारत ने इसे अपने अंदरुनी मामले में दखल बताया था। पाकिस्तान भी तुर्की की ओर से उत्तरपूर्व सीरिया पर कब्जा करने की कोशिशों का समर्थन करता है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो सीरिया में लड़ रहे तुर्की समर्थित सुलेमान शाह ब्रिगेड नामक आतंकी संगठन के आतंकियों की है। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3or29EI

Comments

Popular posts from this blog

चीन ने कहा- हमारा समुद्री अधिकार नियम के मुताबिक, जवाब में ऑस्ट्रेलिया बोला- उम्मीद है आप 2016 का फैसला मानेंगे

अफगानिस्तान सीमा को खोलने की मांग कर रहे थे प्रदर्शनकारी, पुलिस ने फायरिंग की; 3 की मौत, 30 घायल

रूलिंग पार्टी की बैठक में नहीं पहुंचे ओली, भारत से बिगड़ते रिश्ते के बीच इस्तीफे से बचने की कोशिश