24 हजार में से सिर्फ 3 लोगों पर रिजल्ट अच्छे नहीं रहे; एसिम्प्टोमैटिक इन्फेक्शन रोकने में 27% असरदार

हेल्थ जर्नल लैंसेट ने ऑक्सफोर्ड और एस्ट्रेजेनेका की वैक्सीन के ट्रायल की पहली पूरी रिपोर्ट पब्लिश की है। यह दुनिया की किसी भी वैक्सीन के तीसरे फेज की ट्रायल के बाद पब्लिश हुई पहली रिपोर्ट है। इसके मुताबिक, ट्रायल में शामिल 24 हजार लोगों में से सिर्फ 3 लोगों पर असर अच्छा नहीं रहा। इसे लगाने के बाद किसी भी वॉलंटियर को न तो अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा और न किसी की मौत हुई। कोवैक्सिन बिना लक्षण वाले संक्रमण (एसिम्प्टोमैटिक इन्फेक्शन) को रोकने में भी 27% कारगर रही।

लैंसेट के मुताबिक,यूके और ब्राजील में 11 हजार 636 लोग ट्रायल में शामिल हुए। इनमें से 5807 वैक्सीन ग्रुप में शामिल थे। जिन्हें पूरा डोज दिया गया। वहीं 5829 लोग कंट्रोल ग्रुप में थे, जिन्हें पहले आधा और उसके बाद पूरा डोज दिया गया। इस ट्रायल में वैक्सीन 70% तक कारगर पाया गया।

कई देशों में वैक्सीन के इस्तेमाल की इजाजत मांगी गई है

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और इसके पार्टनर एस्ट्रेजेनेका कई देशों के रेग्युलेटर्स से वैक्सीन की मंजूरी मांग रहे हैं। उन्होंने ब्रिटेन और ब्राजील में अपनी वैक्सीन पर हुए ट्रायल के आधार पर इसे इस्तेमाल की इजाजत देने की मांग की है। आक्सफोर्ड ने अपने पहले की ट्रायल के आधार पर कोवैक्सिन के 62% तक कारगर होने की बात कही थी। अब इस पर यूके, यूरोप और अमेरिका के रेगुलेटरी बॉडी को फैसला लेना है। उन्हें तय करना है कि वैक्सीन को मंजूरी देना सही होगा या नहीं।

गलती से कुछ लोगों को आधी खुराक दे दी गई

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने एक ट्रायल में कुछ लोगों को अनजाने में आधी खुराक दे दी। इसके बाद उनपर इसका ज्यादा असर हुआ। पहले रिसर्चर्स को लग रहा था कि वैक्सीन की दो पूरी खुराक देने से यह ज्यादा अच्छा काम करेगा। हालांकि, एक छोटे समूह को ट्रायल में वे आधी खुराक देने से चूक गए। वालंटियर्स के जिस ग्रुप को आधी खुराक कम दी गई उसमें 1367 लोग शामिल थे। इनमें से कोई भी 55 साल से ज्यादा का नहीं था। इसके बाद वैक्सीन पर सवाल उठने शुरू हो गए थे।

दुनिया के लिए अहम मानी जा रही है यह वैक्सीन

ऑक्सफोर्ड एस्ट्रेजेनेका की वैक्सीन दुनिया के लिए काफी अहम मानी जा रही है। इसे तैयार करना और इसका डिस्ट्रीब्यूशन दूसरी वैक्सीन्स की तुलना में आसान है। इसे स्टोर करने के लिए ज्यादा कम टेम्परेचर की जरूरत नहीं होगी। यूनाइटेड नेशन्स (यूएन) के कोवैक्स प्रोग्राम के तहत इस वैक्सीन की 300 करोड़ (3 बिलियन) डोज तैयार करनी है। इसे पूरी दुनिया में भेजा जाएगा। ब्रिटेन ने इसके 1 करोड़ डोज का ऑर्डर दिया है। इनमें से 40 लाख डोज वहां पहुंचा भी दिया जा चुका है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
एस्ट्रेजेनेका और ऑक्सफोर्ड ने अपनी वैक्सीन के इस्तेमाल के लिए यूके, यूरोप और अमेरिका के रेगुलेटरी बॉडी से इजाजत मांगी है।- सिम्बोलिक इमेज


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2VTsrmP

Comments

Popular posts from this blog

चीन ने कहा- हमारा समुद्री अधिकार नियम के मुताबिक, जवाब में ऑस्ट्रेलिया बोला- उम्मीद है आप 2016 का फैसला मानेंगे

अफगानिस्तान सीमा को खोलने की मांग कर रहे थे प्रदर्शनकारी, पुलिस ने फायरिंग की; 3 की मौत, 30 घायल