चुंबक वाले खास मास्क, वाद्य यंत्र से संक्रमण न फैले इसलिए विशेष प्लास्टिक, पाइप से सुरक्षित दूरी

कोराना संक्रमण फैलने के बाद से ही अमेरिका के स्टूडेंट म्यूजिक ग्रुप्स पर इसका बेहद नकारात्मक असर पड़ा। स्कूलों में म्यूजिक सीख रहे बच्चों की क्लास बंद हो गई। छात्रों को प्रैक्टिस के लिए घर पर महंग-महंगे वाद्य यंत्र नहीं मिल पाए। जिन विश्वविद्यालयों में म्यूजिक की पढ़ाई चली भी वहां इसे ऑनलाइन सिखाया गया जिसका कोई खास फायदा नहीं मिल पाया।

लेकिन अब छात्रों और विभिन्न स्टूडेंट बैंड्स ने दोबारा प्रैक्टिस शुरू कर दी है। यहां पर विभिन्न तरह के रिसर्च के बाद कई हल निकाले गए हैं। जैसे- यहां ट्रम्पट, वुड्विंड जैसे मुंह से बजाने वाले वाद्य यंत्रों के बाहरी हिस्से को नायलॉन के कपड़े से ढंककर बजाया जा रहा है।

इन्हें कचरा रखने वाली पतली प्लास्टिक से भी ढंका जा रहा है। यही नहीं इन्हें बजाने वाले भी चुंबक लगे विशेष मास्क पहन रहे हैं, जिसमें आगे की तरफ चीरा है और वो यंत्र हटाते ही स्वयं बंद हो जाता है। ये समूह जब प्रैक्टिस करते हैं तो 6 फीट के ‘हूला हूप्स’ में बैठकर करते हैं, जिन्हें पानी के पाइप से बनाया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ये समूह जब प्रैक्टिस करते हैं तो 6 फीट के ‘हूला हूप्स’ में बैठकर करते हैं, जिन्हें पानी के पाइप से बनाया गया है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/39MJ1wF

Comments

Popular posts from this blog

चीन ने कहा- हमारा समुद्री अधिकार नियम के मुताबिक, जवाब में ऑस्ट्रेलिया बोला- उम्मीद है आप 2016 का फैसला मानेंगे

अफगानिस्तान सीमा को खोलने की मांग कर रहे थे प्रदर्शनकारी, पुलिस ने फायरिंग की; 3 की मौत, 30 घायल

रूलिंग पार्टी की बैठक में नहीं पहुंचे ओली, भारत से बिगड़ते रिश्ते के बीच इस्तीफे से बचने की कोशिश