Posts

न्यूक्लियर साइंटिस्ट मोहसिन फखरीजादेह की गोली मारकर हत्या; ईरानी विदेश मंत्रालय का आरोप- हमले के पीछे इजराइल

Image
ईरान के टॉप न्यूक्लियर साइंटिस्ट मोहसिन फखरीजादेह ( Mohsen Fakhrizadeh) की गोली मारकर आतंकियों ने हत्या कर दी। घटना शुक्रवार को ईरान की राजधानी तेहरान में हुई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मोहसिन शुक्रवार को दामवंद के अब्सार्ड सिटी में थे। यहां उन पर आतंकियों ने गोली और बम से हमला कर दिया। मौके पर ही उनकी मौत हो गई। ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावेद ज़रीफ़ ने इस आतंकी घटना में इजराइल का हाथ बताया है। उन्होंने कहा कि यह गंभीर घटना है। इसमें इजराइल की भूमिका सामने आई है। डिफेंस के रिसर्च सेंटर को हेड करते थे ईरान के डिफेंस मिनिस्ट्री के मुताबिक, मोहसिन डिफेंसिव इनोवेशन एंड रिसर्च (SPND) को हेड करते थे। वह ईरान के एक यूनिवर्सिटी में फिजिक्स के प्रोफेसर भी थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ईरान को न्यूक्लियर के क्षेत्र में मजबूत बनाने में मोहसिन की भूमिका काफी अहम थी। उन्हें ''द फादर ऑफ ईरानियन बॉम्ब'' का दर्जा ईरानी सरकार ने दिया था। ## Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today मोहसिन फखरीजादेह ईरान के एक यूनिवर्सिटी में सीनियर प्रोफेसर भी थे।

95% तक असरदार स्पूतनिक V की 10 करोड़ डोज हर साल बनेगी, अगले साल शुरू होगा प्रोडक्शन

Image
रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड (RDIF) और भारत की दवा कंपनी हेटरो ने कोरोना की वैक्सीन स्पूतनिक V तैयार करने के लिए करार किया है। यह करार भारत में हर साल 10 करोड़ डोज बनाने का है। प्रोडक्शन की शुरुआत अगले साल से होगी। स्पूतनिक V को रूस के गैमेलेया नेशनल रिसर्च सेंटर फॉर एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी ने बनाया है। RDIF विदेश में इसके प्रोडक्शन और प्रमोशन का काम देख रहा है। वैक्सीन के तीसरे फेज के क्लिनिकल ट्रायल को मंजूरी मिल चुकी है। ये ट्रायल बेलारूस, यूएई, वेनेजुएला समेत कई देशों में चल रहे हैं। IDIF के मुताबिक, भारत में दूसरे और तीसरे फेज का ट्रायल जारी है। इस वैक्सीन के 120 करोड़ डोज बनाने के लिए 50 से ज्यादा देश रिक्वेस्ट कर चुके हैं। ग्लोबल मार्केट में सप्लाई के लिए वैक्सीन का प्रोडक्शन भारत, चीन, ब्राजील, साउथ कोरिया और दूसरे देशों में किया जाएगा। 'कोरोना के खिलाफ लड़ाई में बड़ा कदम' हेटरो लैब्स लिमिटेड के डायरेक्टर, इंटरनेशनल मार्केटिंग मुरली कृष्ण रेड्डी ने कहा कि कोविड -19 के इलाज में स्पूतनिक V सबसे कारगर है। वैक्सीन तैयार करने के लिए RDIF के साथ इस पार्टनरशिप से

ट्रम्प ने कहा- अगर इलेक्टोरल कॉलेज बाइडेन को विनर डिक्लेयर कर देगा तो व्हाइट हाउस छोड़ दूंगा

Image
डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि अगर इलेक्टोरल वोट्स में भी यह तय हो जाता है कि वे जो बाइडेन से राष्ट्रपति चुनाव हार चुके हैं तो वे (ट्रम्प) व्हाइट हाउस छोड़ देंगे। ट्रम्प ने गुरुवार को व्हाइट हाउस में मीडिया से बातचीत के दौरान कहा- ये बिल्कुल तय है। अगर इलेक्टोरल कॉलेज वोट्स में बाइडेन जीत जाते हैं तो मैं व्हाइट हाउस जरूर छोड़ दूंगा। लेकिन, अब से 20 जनवरी तक काफी चीजें होने वाली हैं। राष्ट्रपति चुनाव 3 नवंबर को हुए थे। अब तक बाइडेन को 306 जबकि ट्रम्प को 232 वोट मिले हैं। इतना बड़ा अंतर होने के बावजूद अब तक ट्रम्प ने साफ तौर पर हार कबूल नहीं की है। उन्होंने बाइडेन को जीत की बधाई भी नहीं दी है। धांधली के आरोप दोहराए एक सवाल के जवाब में ट्रम्प ने कहा- आप जानते हैं कि अगर मैं इलेक्टोरल कॉलेज में बाइडेन से हार गया तो व्हाइट हाउस छोड़ दूंगा। लेकिन, 20 जनवरी तक काफी चीजें हो सकती हैं। चुनाव में बड़े पैमाने पर धांधली हुई। हमारी स्थिती तीसरी दुनिया के किसी देश जैसी हो गई हैं। हम कम्प्युटर इक्युपमेंट्स का इस्तेमाल कर रहे हैं, जिन्हें हैक किया जा सकता है। चुनाव के बाद पहली बार सवालों के जवाब दिए

कारोबारी ने 8,183 करोड़ रु. के शेयर कर्मचारियों में बांटे, 200 करोड़पति बने

Image
कंपनी और कर्मचारियों के लिए ब्रिटेन के ‘द हट ग्रुप’ के मालिक ने अपनी कंपनी के प्रॉफिट शेयर्स कर्मचारियों में बांट दिए। इससे कंपनी में काम करने वाले 200 कर्मचारी करोड़पति बन गए। ई-कॉमर्स कंपनी के मालिक मैथ्यू मोल्डिंग ने कंपनी के शेयर तेजी से चढ़ने पर कंपनी को प्रॉफिट होते देख यह फैसला किया। मैथ्यू ने अपनी कंपनी के प्रॉफिट में से 830 मिलियन पाउंड यानी करीब 8,183 करोड़ रुपए के शेयर कर्मचारियों में बांट दिए। उन्होंने एक बाय बैक स्कीम चलाई। ये सभी कर्मचारियों के लिए थी। कर्मचारियों का चयन उनके मैनेजर्स ने किया और लिस्ट मालिक तक पहुंचाई। सबको फायदा इस स्कीम का फायदा कंपनी के ड्राइवर्स से लेकर मैथ्यू की पर्सनल असिसटेंट तक को हुआ। मैथ्यू की पर्सनल असिस्टेंट कहती हैं कि इसे इतने पैसे मिले हैं कि वह 36 साल की उम्र में रिटायरमेंट ले सकती हैं। मैथ्यू ने कहा कि मैंने सबको अपना और कंपनी का लाभ बांटना चाहा, इसलिए यह स्कीम पेश की। सभी को काफी पैसे मिले हैं। इस समय व्यापार के विरोध में काफी लोग कुछ न कुछ बोल रहे थे लेकिन मुझे भरोसा था कि शेयर ऊपर जाएगा। कोई भी परफेक्ट नहीं होता, लेकिन हम सब लाभ और पै

एस्ट्राजेनिका के CEO ने कहा- इफिशिएंसी चेक करने के लिए वैक्सीन का फिर ट्रायल कर सकते हैं

Image
एस्ट्राजेनिका कंपनी अपने वैक्सीन का फिर ग्लोबल ट्रायल कर सकती है। इसके CEO पास्कल सोरियोत ने यह संकेत दिए हैं। कंपनी के ट्रायल पर कुछ सवाल उठ रहे हैं और माना जा रहा है कि इसी के मद्देनजर वैक्सीन के एडिशनल ट्रायल करने पर विचार कर रही है ताकि शंकाओं का समाधान किया जा सके। उधर, ब्रिटेन सरकार ने अपने हेल्थ रेगुलेटर से एस्ट्राजेनिका वैक्सीन को अप्रूवल देने के लिए इसकी स्टडी करने को कहा है। एडिशनल स्टडी पर विचार कंपनी ने पिछले हफ्ते अपने वैक्सीन का डाटा रिलीज किया था। इस पर कुछ सवाल उठे थे। अमेरिका में भी एस्ट्राजेनिका के ट्रायल चल रहे हैं। कंपनी ने ट्रायल में मामूली भूल की बात पहले ही स्वीकार कर ली थी। अब कहा जा रहा है कि इसका हल्का डोज फुल डोज के मुकाबले ज्यादा बेहतर नतीजे दे रहा है। इन तमाम बातों के सामने आने के बाद कंपनी के CEO पास्कल सोरियोत ने एक इंटरव्यू में कहा- हमने पाया है कि वैक्सीन की इफिशिएंसी काफी बेहतर है। लेकिन, हम इसे साबित करना चाहते हैं और इसीलिए एडिशनल इंटरनेशनल स्टडी पर विचार कर रहे हैं। इन ट्रायल्स को तेजी से किया जाएगा, लेकिन पेशेंट्स की संख्या पहले से कम होगी। अप

अमेरिका में एक दिन में 1.81 लाख केस और 2 हजार से ज्यादा मौतें, फ्रांस में भी मामले बढ़े

Image
दुनिया में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 6.12 करोड़ के पार हो गया। 4 करोड़ 23 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। अब तक 14 लाख 36 हजार से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। ये आंकड़े https://ift.tt/2VnYLis के मुताबिक हैं। अमेरिका में संक्रमण के मामले कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं। यहां एक दिन में 1 लाख 81 हजार से ज्यादा मामले सामने आए। फ्रांस में भी मामले बढ़ रहे हैं। यहां 13 हजार से ज्यादा मामले सामने आए। अमेरिकी अस्पतालों पर दबाव अमेरिका में संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। यहां एक दिन में एक लाख 81 हजार 490 केस सामने आए। इसी दौरान 2 हजार 297 लोगों की मौत हो गई। यह मई के बाद एक दिन में मौतों का सबसे बड़ा आंकड़ा है। अब मरने वालों का आंकड़ा 2 लाख 62 हजार से ज्यादा हो गया है। एडमिनिस्ट्रेशन की सबसे बड़ी दिक्कत अस्पतालों में भर्ती होने वालों की संख्या है। यहां 24 घंटे में 89 हजार 959 लोग देश के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हुए। प्रशासन का कहना है कि थैंक्स गिविंग डे पर लाखों लोग ट्रैवल कर रहे हैं और इसकी वजह से संक्रमण का खतरा ज्यादा होने की आशंका है। इस बारे में पहले चेतावनी भी जारी की गई थी। हालांकि, ल

अमेरिका की 13 स्टेट असेंबली में भारतवंशियों ने जीतीं 20 सीटें, रचा इतिहास, न्यूयॉर्क में भी पहली बार 4 सीटें जीतीं

Image
ज्यादातर भारतीय जानते हैं कि अमेरिका में भारतीय मूल की कमला हैरिस उपराष्ट्रपति चुनी जा चुकी हैं। कुछ को यह भी पता होगा कि अमेरिका में 1% लोग भारतीय मूल के हैं, लेकिन वहां की राजनीति में इनका खास प्रभाव है। अमेरिका में भारतीय मूल के उम्मीदवारों ने 13 स्टेट असेंबली में 20 सीटें जीतकर इतिहास रच दिया है। ये सीटें उन चार सीटों से अलग हैं, जो भारतीय मूल के लोगों ने संसद के चुनाव में जीती हैं। न्यूयॉर्क स्टेट असेंबली के चुनाव में पहली बार भारतीय मूल के लोगों ने चार सीटें जीती हैं। यह 50 राज्यों की किसी भी असेंबली में भारतीयों की पहली बार सबसे बड़ी जीत है। इसके अलावा भारतवंशियों ने न्यूजर्सी, कनेक्टिकट और नॉर्थ कैरोलिना में दो-दो सीटें और अन्य राज्यों में एक-एक सीट जीती हैं। जीते हुए इन 20 प्रत्याशियों में सिर्फ तीन ही राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की रिपब्लिकन पार्टी से हैं। फिल्मकार मीरा नायर के बेटे जोहरान ममदानी भी शामिल बाकी डेमोक्रेटिक पार्टी के सदस्य हैं। स्टेट असेंबली चुनाव जीतने वाले भारतवंशियों में फिल्मकार मीरा नायर के बेटे जोहरान ममदानी भी शामिल हैं। कैलिफोर्निया में भारतवंशी अमी बे